पंचतंत्र की कहानी – चिड़िया और बन्दर (Hindi Story of chidiya aur bandar)

एक जंगल में एक पेड़ पर गौरैया का घोंसला था। एक दिन कड़ाके की ठंड पड़ रही थी। ठंड से कांपते हुए तीन चार बंदरो ने उसी पेड़ के नीचे…

पंचतंत्र कहानी – सिंह और सियार (Hindi Story of Singh aur Siyaar)

वर्षों पहले हिमालय की किसी कन्दरा में एक बलिष्ठ शेर रहा करता था। एक दिन वह एक भैंसे का शिकार और भक्षण कर अपनी गुफा को लौट रहा था। तभी…

पंचतंत्र कहानी – हाथी और गौरैया (Hindi Story of Hanthi aur Gauraiya)

किसी पेड़ पर एक गौरैया अपने पति के साथ रहती थी। वह अपने घोंसले में अंडों से चूजों के निकलने का बेसब्री से इंतज़ार कर रही थी। एक दिन की…

पंचतंत्र की कहननी – तीन मछलियां (Hindi Story of Teen Machhaliyan)

एक नदी के किनारे उसी नदी से जुड़ा एक बड़ा जलाशय था। जलाशय में पानी गहरा होता हैं, इसलिए उसमें काई तथा मछलियों का प्रिय भोजन जलीय सूक्ष्म पौधे उगते…

पंचतंत्र की कहानी – गौरैया और बन्दर (Hindi Story of Gauraiya aur Bandar)

किसी जंगल के एक घने वृक्ष की शाखाओं पर चिड़ा-चिडी़ का एक जोड़ा रहता था । अपने घोंसले में दोनों बड़े सुख से रहते थे । सर्दियों का मौसम था…

पंचतंत्र कहानी – मित्र-द्रोह का फल (Hindi Story of Mitra Droh ka fal)

दो मित्र धर्मबुद्धि और पापबुद्धि हिम्मत नगर में रहते थे। एक बार पापबुद्धि के मन में एक विचार आया कि क्यों न मैं मित्र धर्मबुद्धि के साथ दूसरे देश जाकर…

पंचतंत्र कहानी – मूर्ख बगुला और नेवला (Hindi story of fool heron and weasel)

जंगल के एक बड़े वट-वृक्ष की खोल में बहुत से बगुले रहते थे । उसी वृक्ष की जड़ में एक साँप भी रहता था । वह बगलों के छोटे-छोटे बच्चों…

पंचतंत्र की कहानी – जैसे को तैसा (Hindi Story of Tit for Tat)

एक स्थान पर जीर्णधन नाम का बनिये का लड़का रहता था । धन की खोज में उसने परदेश जाने का विचार किया । उसके घर में विशेष सम्पत्ति तो थी…

पंचतंत्र की कहानी- मूर्ख बातूनी कछुआ (Hindi story of Foolish Kachhuaa)

किसी तालाब में कम्बुग्रीव नामक एक कछुआ रहता था। तालाब के किनारे रहने वाले संकट और विकट नामक हंस से उसकी गहरी दोस्ती थी। तालाब के किनारे तीनों हर रोज…

पंचतंत्र की कहानी – टिटिहरी का जोड़ा और समुद्र का अभिमान (Hindi Story of Titihari ka Joda)

समुद्रतट के एक भाग में एक टिटिहरी का जोडा़ रहता था । अंडे देने से पहले टिटिहरी ने अपने पति को किसी सुरक्षित प्रदेश की खोज करने के लिये कहा…

पंचतंत्र की कहानी- शेर, ऊंट, सियार और कौवा-पंचतंत्र (sher aur kauva ki kahani)

किसी वन में मदोत्कट नाम का सिंह निवास करता था। बाघ, कौआ और सियार, ये तीन उसके नौकर थे। एक दिन उन्होंने एक ऐसे उंट को देखा जो अपने गिरोह…

पंचतंत्र की कहानी – रंगा सियार (ranga siyaar ki hindi story)

एक बार की बात है कि एक सियार जंगल में एक पुराने पेड़ के नीचे खड़ा था। पूरा पेड़ हवा के तेज झोंके से गिर पड़ा। सियार उसकी चपेट में…

पंचतंत्र की कहानी – खटमल और बेचारी जूं (katmal aur joo ki hindi kahani)

एक राजा के शयनकक्ष में मंदरीसर्पिणी नाम की जूं ने डेरा डाल रखा था। रोज रात को जब राजा जाता तो वह चुपके से बाहर निकलती और राजा का खून…

पंचतंत्र की कहानी- चतुर खरगोश और शेर (Hindi Story of Clever Rabbit)

किसी घने वन में एक बहुत बड़ा शेर रहता था। वह रोज शिकार पर निकलता और एक ही नहीं, दो नहीं कई-कई जानवरों का काम तमाम देता। जंगल के जानवर…

पंचतंत्र कहानिया- बगुला भगत और केकड़ा (Hindi Story)

एक वन प्रदेश में एक बहुत बड़ा तालाब था। हर प्रकार के जीवों के लिए उसमें भोजन सामग्री होने के कारण वहां नाना प्रकार के जीव, पक्षी, मछलियां, कछुए और…

पंचतंत्र कहानी – मूर्ख साधू और ठग (Hindi Story)

एक बार की बात है, किसी गाँव के मंदिर में देव शर्मा नाम का एक प्रतिष्ठित साधू रहता था। गांव में सभी लोग उनका सम्मान करते थे। उसे अपने भक्तों…

पंचतंत्र कहानी – दुष्ट सर्प और कौवे (Hindi Story)

एक जंगल में एक बहुत पुराना बरगद का पेड़ था। उस पेड़ पर घोंसला बनाकर एक कौआ-कव्वी का जोड़ा रहता था। उसी पेड़ के खोखले तने में कहीं से आकर…

पंचतंत्र कहानी – व्यापारी का पतन और उदय (Hindi Story)

वर्धमान नामक शहर में एक बहुत ही कुशल व्यापारी दंतिल रहता था। राजा को उसकी क्षमताओं के बारे में पता था जिसके चलते राजा ने उसे राज्य का प्रशासक बना…

पंचतंत्र की कहानी- शियार और ढ़ोल (Hindi Story)

एक बार एक जंगल के निकट दो राजाओं के बीच घोर युद्ध हुआ। एक जीता दूसरा हारा। सेनाएं अपने नगरों को लौट गईं। बस, सेना का एक ढोल पीछे रह…

पंचतंत्र की कहानी- बंदर और लकड़ी का खूंटा (Hindi Story)

एक समय शहर से कुछ ही दूरी पर एक मंदिर का निर्माण किया जा रहा था। मंदिर में लकड़ी का काम बहुत था इसलिए लकड़ी चीरने वाले बहुत से मज़दूर…