एक व्यक्ति मरने के बाद नर्क में पहुंचा। वहां उसने देखा कि प्रत्येक व्यक्ति को किसी भी देश के नर्क में जाने की छूट है, मतलब जो जिस देश के नर्क में जाना चाहे जाकर सज़ा भोग सकता है ।
उसने सबसे पहले सोचा, चलो अमेरिकी नर्क में जाकर देखें कि वहाँ क्या स्थिति है, जब वह वहां पहुंचा तो उसने नर्क के द्वार पर पहरा दे रहे पहरेदार से पूछा – क्यों भाई अमेरिकी नर्क में क्या-क्या होता है ? यहाँ सजा भोगने का क्या क़ायदे कानून हैं।
पहरेदार बोला – कुछ खास नहीं, सबसे पहले आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जाएगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जाएगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोड़े बरसायेगा!
ये सुनकर वो व्यक्ति बहुत घबराया औऱ वहाँ से भाग खड़ा हुआ।
फ़िर उसने रूस के नर्क का रुख किया और वहां के पहरेदार से भी वही सवाल पूछा । रूस के पहरेदार ने भी लगभग वही बात दोहराया जो वह अमेरिका के नर्क में सुनकर आया था ।
वहाँ से भी वह भागा।
फ़िर वह व्यक्ति एक- एक करके सभी देशों के नर्कों के दरवाजे पर गया लेकिन सभी जगह उसे सजा भोगने के भयानक किस्से ही सुनने को मिले ।
आखिरकार, वो एक जगह पहुंचा, जहां दरवाजे पर लिखा था – “भारतीय नर्क”और उस दरवाजे के बाहर उस नर्क में जाने के लिये बहुत लम्बी लाईन लगी थी। लोग भारतीय नर्क में जाने के लिए उतावले हो रहे थे ।
उस व्यक्ति ने सोचा कि जरूर यहां सजा कम मिलती होगी जिसके कारण भीड़ है, उसने वहाँ के पहरेदार से पूछा कि यहाँ सजा का क्या नियम है ?
सबसे पहले पहरेदार ने उसे इशारा किया कि दो सौ रुपये ढीले करो तब विस्तार से बताता हूँ नहीं तो जल्दी फूटो यहां से, मेरी बोहनी का टाइम है ।
लाचार मे आकार आदमी ने पहरेदार को रुपये थमाए। उसके बाद पहरेदार ने उसके कान में धीरे से कहा – सुनो,यहां कुछ खास नहीं है, सबसे पहल आपको एक इलेक्ट्रिक चेयर पर एक घंटा बैठाकर करंट दिया जायेगा, फ़िर एक कीलों के बिस्तर पर आपको एक घंटे लिटाया जायेगा, उसके बाद एक दैत्य आकर आपकी जख्मी पीठ पर पचास कोड़े बरसाएगा!
चकराये हुए व्यक्ति ने उससे पूछा – यही सब तो बाकी देशों के नर्क में भी हो रहा है, फ़िर यहां इतनी भीड़ क्यों है ?
पहरेदार ने हँसते हँसते बोला – इलेक्ट्रिक चेयर तो वही है, लेकिन यहाँ बिजली नहीं है। कीलों वाले बिस्तर में से बहुत सारी कीलें कोई निकाल कर अपने घर ले गया है। कोडे़ मारने वाला दैत्य सरकारी कर्मचारी है ,उसका जब मन आता है, रजिस्टर में सिर्फ़ दस्तखत करता है और चाय-नाश्ता करने या बीड़ी पीने चला जाता है और अगर वह कभी गलती से जल्दी वापस आ भी गया तो सिर्फ़ एक-दो कोडे़ मारता है लेकिन रजिस्टर में पचास लिख देता हैं………..!!
One thought on “Hindi Story – नर्क मे भी सरकारी कर्मचारी का भ्रष्टाचार”

Comments are closed.