Rashtriya Pratik किसी भी देश के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। राष्ट्रिय प्रतीक उन्हे ही बनाया जाता हैं जो देश के संस्कृति के बारे मे बताते हैं। जैसे भारत का राष्ट्रिय खेल हॉकी हैं क्योंकि हॉकी की खोज भारत मे हुई थी। जब भी हम कंगारू के बारे मे सुनते हैं तो हमारे दिमाग मे आस्ट्रेलिया आता हैं क्योंकि कंगारू आस्ट्रेलिया का राष्ट्र पशु हैं और पूरे विश्व मे सिर्फ आस्ट्रेलिया मे ही कंगारू पाये जाते हैं।आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम भारत के राष्ट्रिय प्रतीक के बारे मे पढ़ेंगे और जानेंगे।

नेशनल सिम्बल्स ऑफ़ इंडिया – National Symbols of India in Hindi

No. राष्ट्रीय प्रतीक पहचान
1. भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा
2. भारत का राष्ट्रीय चिन्ह अशोक स्तम्भ
3. भारत का राष्ट्रीय गान जन गण मन
4. भारत का राष्ट्रगीत वन्दे मातरम्
5. भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ
6. भारत का राष्ट्रीय पुष्प कमल
7. भारत का राष्ट्रीय फल आम
8. भारत का राष्ट्रीय पेड़ बरगद का पेड़ (वट वृक्ष)
9. भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर
10. भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी
11. भारत की राजभाषा हिन्दी
12. भारत का सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार भारत रत्न
13. भारत का राष्ट्रीय जलचर डॉलफिन
14. भारत की राष्ट्रीय मुद्रा रुपया (₹)
15. भारत की राष्ट्रीय नदी गंगा
16. भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी
17. भारत का राष्ट्रीय दिवस स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और गाँधी जयंती
18. भारत की राष्ट्रीय लिपि या आधिकारिक लिपि देवनागरी
19. राजकीय प्रतीक सारनाथ स्थित अशोक के सिंह स्तंभ की अनुकृति
20. राष्ट्रीय कैलेंडर शक संवत् (भारांग)
21. राष्ट्रीय शपथ निष्ठा की शपथ
22. राष्ट्रीय धरोहर पशु भारतीय हाथी
23. राष्ट्रीय सरीसृप किंग कोबरा
24. राष्ट्रीय सब्जी कद्दू
25. राष्ट्रीय मिठाई जलेबी
26. राष्ट्रीय पकवान खिचड़ी
See also  प्राचीन भारत में धार्मिक आंदोलन | नवीन धार्मिक आंदोलनों का उदय

कुछ महत्वपूर्ण प्रश और उनके उत्तर :

भारत का झंडा कब बना और राष्ट्रीय ध्वज के निर्माता कौन हैं?

Rashtriya Pratik: भारत के ध्वज तिरंगा का निर्माण पिंगली वैकैया ने किया था। 1921 मे पिंगली वैकैया ने भारत के ध्वज तिरंगा का निर्माण किया था। पिंगली वैकैया ब्रिटिश आर्मी मे सेना नायक थे। जब उन्होने तिरंगे का निर्माण किया था तब उनकी उम्र 45 वर्ष थी।

तिरंगे को कब राष्ट्रिय ध्वज के रूप स्वीकार्य किया गया था?

Rashtriya Pratik: 22 जुलाई 1947 को आयोजित भारतीय संविधान सभा की बैठक मे इसे राष्ट्रिय ध्वज के रूप मे स्वीकार्य किया गया था। इसके बाद स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्रता दिवस के दिन इसे फहराया गया था।

अशोक स्तम्भ क्या हैं?

Rashtriya Pratik: अशोक स्तम्भ का निर्माण मौर्य वंश के शासक अशोक महान ने कराया था। अशोक ने बौध्य धर्म अपनाने के बाद 84 हजार स्तूपो का निर्माण कराया था। इनहि स्तूपो मे से एक स्तूप सारनाथ हैं। अशोक स्तम्भ सारनाथ मे ही स्थित हैं। अशोक स्तम्भ को बनाने के लिए बलुआ पत्थर का इस्तेमाल किया गया था।

वंदे मातरम को किसने लिखा था?

Rashtriya Pratik: वंदे मातरम को बकीं चंद चट्टोपाध्याय जी ने लिखा था। यह गीत संस्कृत और बंगला का मिश्रण गीत हैं। 1882 मे प्रकाशित उपन्यास “आनंद मठ” मे यह गीत शामिल किया गया हैं। इस गीत को गाने मे 65 मिनट का समय लगता हैं। 2003 मे बीबीसी सर्वेक्षण मे 7000 गानो का सर्वे हुआ था उन 7000 गानो मे टॉप 10 मे यह गीत दूसरे स्थान पर था।

राष्ट्रगान किसकी रचना है?

Rashtriya Pratik: भारत के कविराज एवं गुरुदेव रवीद्र नाथ टैगोर जी ने भारत का राष्ट्रगान लिखा हैं। इसे मूल रूप से बंगला मे लिखा गया था। यह एक बंगला भाषा की कविता हैं। इस कविता को पहली बार 27 दिसंबर 1911 को कलकत्ता मे आयोजित कांग्रेस की एक सभा मे गया गया था।

See also  स्वदेशी व बहिष्कार आंदोलन के कारण और प्रभाव | Swadeshi Andolan Hindi Notes

बरगद का वृक्ष क्यो भारत का राष्ट्रिय वृक्ष हैं?

Rashtriya Pratik: जैसा की हम सब जानते हैं की बरगत का वृक्ष हमारे देश का राष्ट्रिय वृक्ष हैं। इसे बर, वट के नाम से भी जाना जाता हैं। भारत मे इस वृक्ष को पूजनीय माना जाता हैं तथा धार्मिक रूप स ऐसे वंश का प्रतीक माना जाता हैं। बरगद के पेढ को छूने से पाक दूर होते हैं, ऐसी मान्यता हैं। बरगद भारत की धार्मिक रूप एवं सांस्कृतिक रूप से बहुत महत्वपूर्ण हैं। इसलिए संभव हैं की बरगद को भारत का राष्ट्रिय वृक्ष चुना गया हैं।

महात्मा गांधी कौन हैं?

Rashtriya Pratik: महातमा गांधी जी का पूरा नाम मोहनदास करम चंद गांधी हैं। लेकिन भारत के लोग उन्हे महात्मा गांधी के नाम से जानते हैं। महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को पोरबंदर मे हुआ था। रवीद्र नाथ ने गांधी जी को महात्मा की उपाधि दी थी। मान्यता हैं की सुभाष चन्द्र बोस जी ने पहली बार महात्मा गांधी जी को बापू उपाधि दी थी।

Keyword – rashtriya pratik ke naam, rashtriya pratik chinh, rashtriya pratik ka chitra, rashtriya pratik ki visheshta, rashtriya pratik of india, rashtriya pratik ashok stambh, rashtriya pratik kab apnaya gaya,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *