धनाजी जाधव, dhanaji jadhav,

धनाजी जाधव राव जी कौन हैं, क्यो मुगल नाम सुनकर काँपते थे?

धनाजी का परिचय

धनाजी जाधव (1650-1708) को धनाजी जाधव राव के नाम से भी जाना जाता है , वह मराठा सेना के एक प्रमुख सेनापति थे और उन्होंने राजाराम प्रथम , ताराबाई और शाहू प्रथम के शासनकाल के दौरान मराठा साम्राज्य के सेनापति के रूप में कार्य करने का मौका प्राप्त हुआ था।  संताजी घोरपड़े के साथ मिलकर धनाजी जाधव जी ने 1689 से 1696 तक मुगलों सत्ता के खिलाफ बेहद सफल अभियान चलाए और मराठा साम्राज्य के विस्तार और हित में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया था। इसके साथ उन्होंने मुगल सेनाओं को पराजित करते हुये भारत के पश्चिम में स्थित गुजरात प्रांत में मराठा शक्ति के प्रारंभिक विस्तार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

धनाजी का संबंध सिंधखेड के जाधव राव वंश से था। वह लखुजी जाधव के वंशज थे । धनजी के परदादा अचलोजी , जो जीजाबाई के भाई थे, की हत्या के बाद धनाजी का पालन-पोषण शिवाजी की मां जीजाबाई ने किया था। अचलोजी के पुत्र, संताजी, कनकगिरि की लड़ाई में मारे गए। संताजी के पुत्र और धनाजी के पिता शंभू सिंह का पालन-पोषण भी जीजाबाई ने ही किया था। शंभू सिंह की मृत्यु पवन खिंड की लड़ाई में हुई थी।

सैनिक के रूप मे धनाजी की शुरुआत

छोटी उम्र में धनाजी शिवाजी के सेनापति प्रतापराव गूजर के नेतृत्व में मराठा सेना में शामिल हो गए। उमरानी और नेसारी की लड़ाई के दौरान , धनाजी के असाधारण प्रदर्शन ने पहली बार शिवाजी का ध्यान आकर्षित किया। बाद में उन्हें शिवाजी द्वारा उनकी मृत्यु शय्या पर भी मराठा साम्राज्य के छह स्तंभों में से एक के रूप में नियुक्त किया गया, जो चुनौतीपूर्ण समय के दौरान राज्य की रक्षा करेंगे। मुगल सेना के खिलाफ उनके अटूट संघर्ष और निरंतर प्रतिरोध ने औरंगजेब और मराठा सेनाओं के बीच 27 साल के युद्ध में मराठों के अस्तित्व और सफलता को सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

See also  मगध साम्राज्य का उदय एवं पतन पर टिप्पणी लिखिए।

मुगल मराठा युद्ध और धनाजी की भूमिका

धनाजी और उनके प्रतिद्वंद्वी संताजी घोरपड़े को राजाराम प्रथम के शासनकाल के दौरान मुगल सेनाओं से लड़ने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका के लिए जाना जाता है । मराठा हित के प्रति उनकी समर्पित सेवा ने औरंगजेब की मुगल सेना की प्रगति को एक चौथाई सदी तक प्रभावी ढंग से विफल कर दिया। औरंगजेब के निधन के साथ , महाराष्ट्र में मुगल प्रभाव अंततः कम हो गया, फिर कभी प्रमुखता हासिल नहीं कर सका।

संघर्ष के दौरान, मराठों ने मुगल सेना को प्रभावी ढंग से शामिल करने और बाधित करने के लिए पैदल सेना और घुड़सवार सेना दोनों का उपयोग किया। बीजापुर और गोलकुंडा के पतन के बाद, बड़ी संख्या में घुड़सवारों बेरोजगार हो गए थे, इसलिए धनाजी ने इस पर ध्यान दिया और उन सभी बेरोजगार हो गए घुडसवारों को अपनी सेना मे शामिल करके अपनी सेना की शक्ति को बड़ी तेजी से बढ़ाया। मराठा सेना मे केंद्रीय प्राधिकरण न होने की वजह से धनाजी जाधव ने एक नई तकनीक विकसित की जिसका इस्तेमाल करके धनाजी अपने घुड़सवार को बड़े और लंबे युद्ध क्षेत्र में भी नियंत्रित कर सकते थे। जहां विरोधी सेना युद्ध के दौरान बड़े क्षेत्र और दूर निकाल जाने पर निर्देशों की कमी महसूस करते थे और सेनापति के वर्तमान आदेश से अंजान रहते थे वही धनाजी जाधव ने एसी तकनीक विकसित कर ली थी की सेना दूर जा कर भी सेनापति के नए आदेशो के बारे मे जान सकेगी और सेना का आपसी समन्वय नहीं टूटेगा। यह तकनीक मराठा सेना के बहुत काम आई थी।

See also  संविधान सभा की अंतिम बैठक कब हुई

नवंबर 1703 में, औरंगजेब ने शाहू प्रथम को रायगढ़ की लड़ाई मे बंदी बना लिया था और उन्हे छोड़ने के लिए उसने अपने बेटे कामबक्श को धनाजी जाधव जी के पास भेजा था। लेकिन यह बातचीत असफल रही थी क्योंकि मुगल शक्ति धनाजी जाधव के मांगो से सहमत नहीं थी।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *