कंप्यूटर नेटवर्क क्या है?

एक कंप्यूटर नेटवर्क दो या दो से अधिक कंप्यूटरों का एक समूह है जो एक दूसरे से जुड़े होते हैं ताकि संसाधनों को साझा कर सकें और डेटा का आदान-प्रदान कर सकें। कंप्यूटर नेटवर्क पर साझा किए जा सकने वाले संसाधनों में प्रिंटर, फाइलें, फ़ोल्डर्स, एप्लिकेशन और इंटरनेट एक्सेस शामिल हैं। कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  1. संचार: कंप्यूटर नेटवर्क उपयोगकर्ताओं को ईमेल, इंस्टेंट मैसेजिंग और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग जैसी टूल्स का उपयोग करके वास्तविक समय में एक दूसरे के साथ संवाद करने की अनुमति देते हैं।
  2. फ़ाइल साझाकरण: कंप्यूटर नेटवर्क अन्य नेटवर्क उपयोगकर्ताओं के साथ फ़ाइलों और फ़ोल्डर्स को साझा करना आसान बनाते हैं। यह परियोजनाओं पर सहयोग करने या डेटा का बैकअप लेने के लिए उपयोगी हो सकता है।
  3. अनुप्रयोग साझाकरण: कंप्यूटर नेटवर्क अन्य नेटवर्क उपयोगकर्ताओं के साथ अनुप्रयोगों(application) को साझा करने के लिए उपयोग किए जा सकते हैं। इससे उपयोगकर्ताओं को प्रत्येक कंप्यूटर पर एक ही एप्लिकेशन इंस्टॉल करने से बचना पड़ता है।
  4. इंटरनेट एक्सेस: कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग इंटरनेट से कनेक्ट करने के लिए किया जा सकता है, जिससे उपयोगकर्ताओं को एक विशाल मात्रा में जानकारी और संसाधनों तक पहुंच प्राप्त होती है।

जैसे-जैसे तकनीक आगे बढ़ती है, कंप्यूटर नेटवर्क तेज, अधिक विश्वसनीय और अधिक सुरक्षित हो जाएंगे। यह उपयोगकर्ताओं को संसाधनों को साझा करने और डेटा का आदान-प्रदान करने के लिए पहले से कहीं अधिक आसान बना देगा। कंप्यूटर नेटवर्क भी नए तकनीक के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा हैं, जैसे कि आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस

कंप्यूटर नेटवर्क का इतिहास

कंप्यूटर नेटवर्क का इतिहास 1960 के दशक की शुरुआत में शुरू होता है, जब वैज्ञानिकों और इंजीनियरों ने कंप्यूटरों को एक साथ जोड़ने के तरीके विकसित करना शुरू किया ताकि वे संसाधनों को साझा कर सकें और एक दूसरे के साथ संवाद कर सकें।

See also  कम्प्यूटर के विकास का इतिहास (History of Computer Development)

सबसे पहले कंप्यूटर नेटवर्क में से एक अर्पानेट (ARPANET) था, जिसे 1969 में अमेरिकी रक्षा विभाग द्वारा विकसित किया गया था। ARPANET एक पैकेट स्विच्ड नेटवर्क था, जिसका अर्थ है कि डेटा को छोटे पैकेटों में तोड़ दिया जाता था और नेटवर्क पर कई मार्गों में भेजा जाता था। यह ARPANET को पिछले नेटवर्कों की तुलना में अधिक विश्वसनीय बनाता था, यह तकनीक सर्किट-स्विच्ड आर्किटेक्चर का उपयोग करता था।

ARPANET तेजी से लोकप्रिय हुआ, और 1980 के दशक की शुरुआत तक, इसने दुनिया भर के विश्वविद्यालयों, अनुसंधान प्रयोगशालाओं और सरकारी एजेंसियों में सैकड़ों कंप्यूटरों को जोड़ दिया था। 1983 में, ARPANET को दो नेटवर्कों में विभाजित किया गया था: MILNET, जिसका उपयोग सैन्य उद्देश्यों के लिए किया जाता था, और NSFNET, जिसका उपयोग शैक्षणिक और अनुसंधान उद्देश्यों के लिए किया जाता था।

NSFNET ने इंटरनेट के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 1990 के दशक की शुरुआत में, NSFNET को व्यावसायिक उपयोग के लिए खोल दिया गया था, और यह जल्दी से इंटरनेट की रीढ़ बन गया। इंटरनेट तब से दुनिया में सबसे बड़ा और सबसे व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला कंप्यूटर नेटवर्क बन गया है।

यहां कंप्यूटर नेटवर्क के इतिहास में कुछ महत्वपूर्ण घटनाएँ हैं:

  • 1961: लियोनार्ड क्लेनरॉक पैकेट स्विच्ड नेटवर्क को प्रस्तावित करते हैं।
  • 1965: डोनाल्ड डेविस ने “पैकेट” शब्द को गढ़ा है, जो यह वर्णन करता है कि डेटा को नेटवर्क पर कैसे भेजा जाता है।
  • 1969: ARPANET बनाया गया है।
  • 1981: TCP/IP प्रोटोकॉल सूट को मानकीकृत(Standardization) किया गया है।
  • 1983: ARPANET को MILNET और NSFNET में विभाजित किया गया है।
  • 1990: पहले वाणिज्यिक इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (ISP) स्थापित किए गए।
  • 1991: टिम बर्नर्स-ली के द्वारा वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार किया गया है।
  • 1993: NSFNET को बंद कर दिया गया और इसकी जगह कमर्शियल इंटरनेट बैकबोन ने ले ली
  • 1996: इंटरनेट जनता के लिए व्यापक रूप से उपलब्ध हो गया।
See also  CPU मे रजिस्टर क्या होते हैं और उनके प्रकार और इस्तेमाल की पूरी जानकारी

कंप्यूटर नेटवर्क का इतिहास लंबा और जटिल है, लेकिन इसने हमारी समय के सबसे महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों में से एक के विकास को जन्म दिया है। कंप्यूटर नेटवर्क ने हमारे संचार, कार्य और सीखने के तरीके को क्रांति में बदल दिया है। उन्होंने दुनिया भर से कहीं से भी एक विशाल मात्रा में जानकारी और संसाधनों तक पहुंचना भी संभव बना दिया है। कंप्यूटर नेटवर्क का भविष्य बहुत उज्ज्वल है, और वे हमारे जीवन में एक आवश्यक भूमिका निभाते रहेंगे।

इंटरनेट बैकबोन क्या है?

इंटरनेट बैकबोन एक उच्च गति वाला नेटवर्क है जो प्रमुख इंटरनेट सेवा प्रदाताओं (ISP) और वेब सेर्वर को जोड़ता है। यह इंटरनेट का आधार है, और यह विभिन्न हिस्सों के बीच डेटा के तेज और विश्वसनीय हस्तांतरण की अनुमति देता है। इंटरनेट बैकबोन फाइबर ऑप्टिक केबलों, माइक्रोवेव लिंक और उपग्रहों के विशाल नेटवर्क से बना है। ये लिंक विभिन्न कंपनियों के स्वामित्व और संचालन में हैं, लेकिन वे सभी एकल, वैश्विक नेटवर्क बनाने के लिए आपस में जुड़े हुए हैं। इंटरनेट बैकबोन लगातार बैंडविड्थ की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए अपग्रेड किया जा रहा है। हाल के वर्षों में, नई फाइबर ऑप्टिक केबलों में एक बड़ा निवेश किया गया है, जिससे बैकबोन की क्षमता में काफी वृद्धि हुई है।

इंटरनेट बैकबोन इंटरनेट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, और यह नेटवर्क के सुचारू संचालन के लिए आवश्यक है।

इंटरनेट बैकबोन के कुछ लाभ यह हैं:

  1. तेज डेटा ट्रांसफर स्पीड: इंटरनेट बैकबोन उच्च गति वाली लिंक से बना है, जो तेज डेटा ट्रांसफर स्पीड की अनुमति देता है। यह उन व्यवसायों के लिए महत्वपूर्ण है जिन्हें वीडियो या ऑडियो फ़ाइलों जैसे बड़ी मात्रा में डेटा को स्थानांतरित करने की आवश्यकता होती है।
  2. अधिक विश्वसनीय कनेक्शन: इंटरनेट बैकबोन अन्य प्रकार के नेटवर्क, जैसे स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क (LAN) या व्यापक क्षेत्र नेटवर्क (WAN) की तुलना में अधिक विश्वसनीय है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह कई दोहरे लिंक से बना है, जिसका अर्थ है कि यदि एक लिंक विफल हो जाता है, तो अन्य इसे संभाल सकते हैं।
  3. अधिक व्यापक पहुंच: इंटरनेट बैकबोन अन्य प्रकार के नेटवर्क की तुलना में व्यापक भौगोलिक क्षेत्र को कवर करता है। इसका मतलब है कि व्यवसाय दुनिया भर में ग्राहकों और भागीदारों से जुड़ सकते हैं।
  4. कम लागत: इंटरनेट बैकबोन से जुड़ने की लागत अपेक्षाकृत कम है। यह सभी आकार के व्यवसायों के लिए एक किफायती विकल्प बनाता है।
See also  कम्प्युटर क्या हैं ? (What is Computer?)

Keyword- कंप्यूटर नेटवर्क, कंप्यूटर नेटवर्क क्या है, कंप्यूटर नेटवर्क के प्रकार,  कंप्यूटर नेटवर्क की आवश्यकता, कंप्यूटर नेटवर्क की संरचना को समझाइए, कंप्यूटर नेटवर्क किसे कहते हैं,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *