भूत की कहानी – रीवा के नेहरा गाँव मे भूतनी ने किया था 450 वर्ष राज

भूत की कहानी – रीवा के नेहरा गाँव मे भूतनी ने किया था 450 वर्ष राज

यह किस्सा मध्य प्रदेश के रीवा जिले का है। रीवा जिले में नेहरा नाम का एक गांव है, यहां के लोग बताते हैं की बहुत साल पहले इस गांव में एक नौजवान और युवा लड़के की शादी हुई थी। उसकी बरात बड़ी धूमधाम के साथ गई थी। शादी के बाद दुल्हन को बरात अपने साथ लेकर वापस गांव लौटी, उस समय दुल्हन को डोली में बिठाकर लाने का प्रचलन था। जब डोली उठाने वाले रास्ते में थक गए तो आराम करने की दृष्टि से उन्होंने डोली को एक पेड़ के छांव के नीचे जमीन पर रख दिया और आराम करने लगे।

आराम करते हुए लगभग सभी बाराती, एक छोटी सी नींद भी लेने लगे, इसी दौरान उस सुनसान इलाके के एक पुराने पीपल के पेड़ में रहने वाली भूतनी ने उस दुल्हन को मारकर उसके शरीर में कब्जा कर लिया।

बारातियों को इसके बारे में कोई खबर नहीं हुई क्योंकि थकान की वजह से सभी लोग सो रहे थे। बारातियों की जब नींद खुली तो वापस वह घर की ओर चलने लगे।

बारात जब घर वापस आ गई तो दुल्हन को उसके कमरे तक पहुंचाया गया, और रात को जब दूल्हा अपने कमरे में गया और जैसे ही उसने दुल्हन के घूंघट को उठाने लगा तो उसे बहुत तेज की प्यास लगी और उसने दुल्हन से पानी पीने की इच्छा जताई। तो दुल्हन बैठे-बैठे ही अपने हाथ को लंबा करने लगी और उसका हाथ घर के आंगन में मौजूद कुए तक चला गया और कुएं में मौजूद पानी से भरी बाल्टी से उसने एक गिलास पानी निकाला और वापस दूल्हे को दे दिया।

See also  Bhoot ki Kahani - रात की सवारी

यह देखते ही दूल्हे के होश उड़ गए और वह बेचारा जमीन पर गिरकर बेहोश हो गया। जब उसे होश आया तो उसने देखा कि उसके सामने दुल्हन के रूप में एक भूतनी बैठी हुई है।

भूतनी ने गरजते हुए दूल्हे से कहा कि तुम मेरा राज जान चुके हो, इसलिए मैं तुम्हारे और तुम्हारे परिवार वालों को मारदूंगी, अगर तुम वादा करो की तुम मेरा राज किसी को नहीं बताओगे तब ही तुम्हें और तुम्हारे परिवार वालों को मैं जिंदा छोडूंगी। दूल्हे ने उससे वादा किया की वह उसका राज किसी से नहीं बताएगा।

गाँव वाले कहते हैं धीरे-धीरे उस घर के सभी लोग मर गए। लेकिन वह दुल्हन 450 वर्षों तक जिंदा रही और जब तक वहाँ रही तब तक हर वर्ष उसके शादी की सालगिरह के दिन गांव से एक आदमी गायब हो जाया करता था।

वह भूतनी उस गांव में  450 वर्ष तक रही और जब तक वह वहां रही, उस गांव के लोग कभी भी खुश नहीं रह पाए। लेकिन एक बार बनारस से बहुत सिद्ध साधु आए थे। जिन्होंने अपने मंत्रोच्चार से उस भूतनी को वहां से भगा दिया था, तब से उस गांव की दशा दिशा बदल गई लोग सुख और शांति से रहने लगे। वहाँ मंदिर बनवाए गए, तब से वह भूतनी कभी भी गाँव मे नहीं भटकी, कहते हैं की गाँव छोड़ कर वह पास के जंगल मे रहने लगी।

दिन के दोनों समय भगवान की वहां पूजा होती है।

Keyword – bhoot ki kahani in hindi, bhoot ki kahani lyrics in hindi,भूत की कहानी डरावनी,bhoot wala cartoon,bhoot wala, chudail ki kahani, chudail ki kahani bhutiya,chudail ki kahani hindi mein,chudail ki kahani darawni,chudail ki kahani khatarnak,chudail ki kahani dikhaiye,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *