Table of Contents

सचिन तेंदुलकर की कुल संपत्ति

सचिन तेंदुलकर अपने पूरे करियर में विभिन्न ब्रांडों से जुड़े रहे हैं, और उन्हें अब तक के सबसे धनी क्रिकेटरों में से एक माना जाता है। विभिन्न स्रोतों के अनुसार उनकी कुल संपत्ति लगभग $150 मिलियन आंकी गई है।

पूरा नाम सचिन रमेश तेंदुलकर
पत्नी का नाम अंजलि तेंदुलकर
सचिन का प्रोफेशन क्रिकेटर, कमेंटेटर, मेंटर
सचिन की कुल संपत्ति 1350 करोड़ रूपाय (150 मिलियन डालर)

सचिन तेंदुलकर का छोटा सा परिचय

सचिन तेंदुलकर एक पूर्व भारतीय क्रिकेटर हैं जिन्हें व्यापक रूप से खेल के इतिहास में सबसे महान बल्लेबाजों में से एक माना जाता है। उनका जन्म 24 अप्रैल, 1973 को मुंबई, भारत में हुआ था और उन्होंने कम उम्र में ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। महज 16 साल की उम्र में, उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के लिए पदार्पण किया और अगले दो दशकों में, उन्होंने कई रिकॉर्ड और प्रशंसा अर्जित की। क्रिकेट में तेंदुलकर की उपलब्धियां अद्वितीय हैं। वह 664 मैचों में कुल 34,357 रन के साथ, टेस्ट और एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट दोनों में सर्वाधिक रन बनाने वाले एक मात्र खिलाड़ी हैं। उनके पास 100 के साथ सबसे अधिक अंतरराष्ट्रीय शतकों का रिकॉर्ड भी है।

तेंदुलकर की बल्लेबाजी शैली की विशेषता उनकी त्रुटिहीन तकनीक, हाथ से आँख का समन्वय और अविश्वसनीय मानसिक शक्ति थी। वह स्पिन और गति दोनों को खेलने में समान रूप से सहज थे, और लंबी पारियां खेलने और लगातार रन बनाने की उनकी क्षमता ने उन्हें विरोधी टीमों के लिए एक बुरा सपना बना दिया। मैदान के बाहर, तेंदुलकर एक विनम्र और सम्मानित व्यक्ति थे। वह अपनी खेल भावना और शालीनता के लिए जाने जाते थे, और उनकी लोकप्रियता देश की सीमाओं और संस्कृतियों से परे थी। वह दुनिया भर के लाखों महत्वाकांक्षी क्रिकेटरों और प्रशंसकों के लिए एक आदर्श थे। 2013 में क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद, तेंदुलकर ने कमेंटेटर, मेंटर और एंबेसडर के रूप में खेल में शामिल होना जारी रखा। उन्होंने भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, भारत रत्न सहित कई पुरस्कार और सम्मान प्राप्त किए हैं, और क्रिकेट के खेल पर एक अमिट छाप छोड़ी है।

सचिन तेंदुलकर टोटल शतक

सचिन तेंदुलकर ने अपने क्रिकेट करियर के दौरान 100 अंतरराष्ट्रीय शतक बनाए। उनमें से, उन्होंने टेस्ट मैचों में 51 शतक बनाए, जो प्रारूप के इतिहास में किसी भी बल्लेबाज द्वारा सबसे अधिक है, और एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (वनडे) में 49 शतक हैं, जो एक विश्व रिकॉर्ड भी है। उनका पहला अंतरराष्ट्रीय शतक 1990 में मैनचेस्टर में इंग्लैंड के खिलाफ आया था, जब वह सिर्फ 17 साल के थे, और उनका आखिरी शतक 2012 में ढाका में बांग्लादेश के खिलाफ था, जब वह 39 साल के थे। तेंदुलकर की शतक-स्कोरिंग क्षमता कई कारकों में से एक है जिसने क्रिकेट की दुनिया में उनकी महान स्थिति में योगदान दिया।

सचिन से जुड़े आंकड़े संख्या मे
टेस्ट मे सचिन के शतक 51 शतक
टेस्ट मे सचिन के अर्ध शतक 68 अर्ध शतक
वनडे मे सचिन के शतक 49 शतक
वनदे मे सचिन के अर्ध शतक 96 अर्ध शतक
टेस्ट मे सचिन का सर्वश्रेष्ठ रन 248 नॉट आउट
वनदे मे सचिन का सर्वश्रेष्ठ रन 200 नॉट आउट
टेस्ट मे सचिन के कुल रन 15,921 रन
वनडे मे सचिन के कुल रन 18,426 रन
सचिन के द्वारा खेले टेस्ट मैच 200
सचिन के द्वारा खेले वनडे मैच 463
सचिन के द्वारा खेले T20 मैच मात्र एक मैच
See also  पूजा नाम की लड़कियां कैसी होती है

सचिन तेंदुलकर कहां तक पढ़े हैं

सचिन तेंदुलकर ने अपनी स्कूली शिक्षा मुंबई में शारदाश्रम विद्यामंदिर स्कूल से पूरी की। वह स्कूल में एक शरारती बच्चे के रूप में जने जाते थे और क्रिकेट हमेशा से उसका जुनून था। अपने व्यस्त क्रिकेट कार्यक्रम के कारण, वह स्कूल के बाद उच्च शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम नहीं थे। हालाँकि, 2010 में, तेंदुलकर को क्रिकेट के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए मैसूर विश्वविद्यालय द्वारा कला के क्षेत्र में डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा, उन्हें मैनचेस्टर विश्वविद्यालय और राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय द्वारा डॉक्टरेट की मानद उपाधि से भी सम्मानित किया गया है। स्कूल से परे एक औपचारिक शिक्षा नहीं होने के बावजूद, तेंदुलकर की अपार प्रतिभा, समर्पण और कड़ी मेहनत ने उन्हें अपने क्रिकेट करियर में महान ऊंचाइयों को हासिल करने में सक्षम बनाया, और वे दुनिया भर में लाखों लोगों के लिए एक प्रेरणा बने हुए हैं।

सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न कब मिला

सचिन तेंदुलकर को नवंबर 2013 में भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। वह इस प्रतिष्ठित सम्मान को प्राप्त करने वाले पहले खिलाड़ी और सबसे कम उम्र के व्यक्ति बने। भारत सरकार ने तेंदुलकर को क्रिकेट के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान और राष्ट्र के लिए उनकी सेवाओं के लिए पुरस्कार प्रदान किया। तेंदुलकर की क्रिकेट उपलब्धियों, खेल कौशल और भारतीय क्रिकेट में योगदान ने उन्हें भारत और दुनिया भर में लाखों लोगों के लिए एक राष्ट्रीय आइकन और एक रोल मॉडल बना दिया है।

सचिन तेंदुलकर की बेटी का नाम

सचिन तेंदुलकर के दो बच्चे हैं – अर्जुन नाम का एक बेटा और सारा तेंदुलकर नाम की बेटी। सारा तेंदुलकर का जन्म 12 अक्टूबर 1997 को मुंबई, भारत में हुआ था। अपने पिता के विपरीत,  काफी हद तक लाइमलाइट से दूर रही हैं। सारा ने मुंबई के धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल स्कूल में अपनी शिक्षा पूरी की और विदेश में उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए चली गईं।

सचिन तेंदुलकर के खेल-कूद से जुड़े आंकड़े

सचिन तेंदुलकर के नाम क्रिकेट के खेल में कई रिकॉर्ड दर्ज हैं। यहां उनके कुछ सबसे उल्लेखनीय रिकॉर्ड हैं:

  1. सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी: सचिन ने 200 टेस्ट मैचों में 15,921 रन बनाए और 463 एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैचों में 18,426 रन बनाए। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनके कुल 34,357 रन एक विश्व रिकॉर्ड है।
  2. सर्वाधिक अंतरराष्ट्रीय शतक: सचिन ने 100 अंतरराष्ट्रीय शतक (टेस्ट में 51 और वनडे में 49) बनाए, जो एक ऐसा रिकॉर्ड है जिसे अभी तक तोड़ा नहीं जा सका है।
  3. विश्व कप के एक संस्करण में सर्वाधिक रन: सचिन ने 2003 के विश्व कप में 673 रन बनाए, जो टूर्नामेंट के एक संस्करण में किसी भी बल्लेबाज द्वारा बनाए गए सर्वाधिक रन हैं।
  4. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक कैलेंडर वर्ष में सर्वाधिक रन: सचिन ने 1998 में 2,689 रन बनाए, जो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक कैलेंडर वर्ष में किसी भी बल्लेबाज द्वारा बनाए गए सर्वाधिक रन हैं।
  5. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में एक कैलेंडर वर्ष में सर्वाधिक शतक: सचिन ने 1998 में 9 अंतर्राष्ट्रीय शतक बनाए, जो अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में एक कैलेंडर वर्ष में किसी भी बल्लेबाज द्वारा सबसे अधिक है।
  6. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैचों में सर्वाधिक रन: सचिन ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 39 टेस्ट मैचों में 3,630 रन बनाए, जो दोनों देशों के बीच टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में किसी भी बल्लेबाज द्वारा बनाए गए सर्वाधिक रन हैं।

ये क्रिकेट के खेल में सचिन तेंदुलकर के कई रिकॉर्डों में से कुछ हैं। क्रिकेट के मैदान पर उनके कारनामों ने उन्हें खेल के सर्वकालिक महान खिलाड़ियों में स्थान दिलाया है।

सचिन तेंदुलकर किस राज्य के हैं

सचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 को महाराष्ट्र राज्ये के मुंबई शहर में हुआ था। उन्होंने अपना अधिकांश बचपन और शुरुआती साल महाराष्ट्र राज्ये के मुंबई में बिताया, और मुंबई शहर को अक्सर उनके गृहनगर के रूप में जाना जाता है।

See also  Best शेखचिल्ली की कहानियाँ 01 - शेख साहब के घर का रास्ता

सचिन को सबसे ज्यादा किसने आउट किया?

श्रीलंका के ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा बार सचिन तेंदुलकर को बोल्ड किया है। मुरलीधरन ने तेंदुलकर को खेल के सभी प्रारूपों में कुल 13 बार – टेस्ट में 5 बार और एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 8 बार आउट किया। मुरलीधरन अब तक के सबसे महान गेंदबाजों में से एक थे और क्रमशः 800 और 534 विकेट लेकर टेस्ट और वनडे क्रिकेट दोनों में अग्रणी विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं।

सचिन तेंदुलकर ने कितने विकेट लिए हैं?

सचिन तेंदुलकर मुख्य रूप से एक बल्लेबाज थे और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अक्सर गेंदबाजी नहीं करते थे। हालाँकि, वह एक उपयोगी अंशकालिक गेंदबाज थे और उन्होने खेल के सभी प्रारूपों में 201 विकेट लिए – टेस्ट में 46, एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय में 154, और टी20 अंतर्राष्ट्रीय में 1 विकेट लिया। सचिन की गेंदबाजी को अक्सर कप्तानों द्वारा एक उपयोगी विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जाता था, और उन्होंने समय-समय पर अपनी ऑफ स्पिन गेंदबाजी से विकेट लिए। टेस्ट में उनके सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आंकड़े 3/10 थे, जबकि वनडे में उन्होंने 1998 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 5/32 के अपने सर्वश्रेष्ठ आंकड़े दिये थे।
टेस्ट मे सचिन के विकेट 46 विकेट
वन डे मे सचिन के विकेट 154 विकेट
टेस्ट मे एक परी मे 5 विकेट एक भी बार नहीं’
वनडे मे एक मैच मे 5 विकेट 2 बार
टेस्ट मे सचिन का बेस्ट बॉलिंग 10 रन देकर 3 विकेट
वनदे मे सचिन का बेस्ट बॉलिंग 32 रन देकर 5 विकेट

सचिन तेंदुलकर किस प्रकार के बॉलर थे?

सचिन तेंदुलकर दाएं हाथ के बल्लेबाज और दाएं हाथ के ऑफ स्पिन गेंदबाज थे। उन्होंने मुख्य रूप से ऑफ-स्पिन गेंदबाजी की, जो एक प्रकार की स्पिन गेंदबाजी है जहां गेंद दाएं हाथ के बल्लेबाज के लिए ऑफ-साइड से लेग-साइड की ओर स्पिन होती है। सचिन की ऑफ स्पिन गेंदबाजी उनका प्राथमिक कौशल नहीं था, लेकिन वे अपनी सटीक गेंदबाजी और उछाल और गति में सूक्ष्म विविधताओं के साथ समय-समय पर विकेट लेने में सक्षम थे।

सचिन ने 200 रन कब बनाए थे?

सचिन तेंदुलकर ने 24 फरवरी, 2010 को ग्वालियर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना एकदिवसीय दोहरा शतक बनाया। वह ODI क्रिकेट के इतिहास में एक पारी में दोहरा शतक बनाने वाले पहले खिलाड़ी बने। सचिन ने नाबाद 200 रनों की पारी सिर्फ 147 गेंदों पर खेली और इसमें 25 चौके और 3 छक्के शामिल थे। यह एक उल्लेखनीय उपलब्धि थी और इसे एकदिवसीय क्रिकेट इतिहास में अब तक खेली गई सबसे बड़ी पारियों में से एक माना जाता है। इस पारी की मदद से भारत ने अपने 50 ओवरों में 3 विकेट पर 401 का विशाल स्कोर बनाया, जिसका उन्होंने सफलतापूर्वक बचाव करते हुए 153 रनों से मैच जीत लिया।

सचिन तेंदुलकर की पत्नी कौन हैं?

सचिन तेंदुलकर की पत्नी का नाम अंजलि तेंदुलकर है। अंजलि पेशे से एक बाल रोग विशेषज्ञ हैं और उन्होंने 24 मई, 1995 को शादी कर ली। दंपति 25 साल से अधिक समय से साथ हैं और उनके दो बच्चे हैं – सारा तेंदुलकर नाम की एक बेटी और अर्जुन तेंदुलकर नाम का बेटा। अंजलि अपने पूरे करियर में हमेशा सचिन के लिए एक बेहतरीन सपोर्ट सिस्टम रही हैं, और यह जोड़ी अपने मजबूत बंधन और एक दूसरे के लिए प्यार के लिए जानी जाती है।

सचिन ने कितने अवधि तक क्रिकेट खेला हैं?

सचिन तेंदुलकर ने 1989 से 2013 तक 24 साल की अवधि के लिए भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला। उन्होंने नवंबर 1989 में 16 साल की उम्र में भारत के लिए पदार्पण किया और एक शानदार करियर बनाया, जो भारत के महानतम क्रिकेटरों में से एक बन गया। सचिन ने खेल के सभी प्रारूपों में कुल 664 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले – 200 टेस्ट मैच, 463 एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय और 1 टी20 अंतर्राष्ट्रीय। उन्होंने इन मैचों में चौंका देने वाले 34,357 रन बनाए, जिसमें 100 अंतरराष्ट्रीय शतक शामिल हैं, जो एक रिकॉर्ड है जो आज भी कायम है।

सचिन तेंदुलकर को मास्टर ब्लास्टर क्यो कहा जाता हैं?

सचिन तेंदुलकर को अक्सर उनकी तेजी से रन बनाने की क्षमता और उनके असाधारण बल्लेबाजी कौशल के कारण “मास्टर ब्लास्टर” के रूप में जाना जाता है। सचिन एक आक्रामक बल्लेबाज थे जो पार्क के चारों ओर गेंद को हिट करने में सक्षम थे और अपनी इच्छानुसार बाउंड्री स्कोर करने की क्षमता के लिए जाने जाते थे। उनके पास एक उत्कृष्ट तकनीक थी और वे स्ट्रेट ड्राइव, कवर ड्राइव, पुल शॉट और स्वीप शॉट सहित सभी प्रकार के शॉट बड़ी आसानी और कुशलता से खेल सकते थे। सचिन की तेज़ी से रन बनाने की क्षमता और वर्षों में उनकी अविश्वसनीय निरंतरता ने उन्हें “मास्टर ब्लास्टर” का उपनाम दिया, जो एक क्रिकेटर के रूप में उनकी उत्कृष्ट प्रतिभा और कौशल का एक वसीयतनामा है।

See also  हिन्दी कहानी - ट्रेन और एक छोटा बच्चा | Hindi Story - Train and a Little Child |

सचिन इंडियन क्रिकेट टीम के कप्तान कब बने थे?

सचिन तेंदुलकर पहली बार 1996 में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान बने थे, जब वह सिर्फ 23 साल के थे। ऑस्ट्रेलिया के दौरे के दौरान उन्हें थोड़े समय के लिए टीम का कप्तान नियुक्त किया गया था, क्योंकि नियमित कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन घायल हो गए थे। हालाँकि, सचिन की कप्तानी का कार्यकाल छोटा था, और केवल दो मैचों के बाद उनकी जगह अजहरुद्दीन को कप्तान बना दिया गया। 1999 में सचिन ने फिर से भारतीय टीम का नेतृत्व किया, जब उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ पूरी श्रृंखला के लिए कप्तान नियुक्त किया गया। वह 1999 से 2000 तक दो साल की अवधि के लिए भारतीय टीम के कप्तान बने रहे। सचिन की कप्तानी के मिश्रित परिणाम मिले, लेकिन उन्हें अभी भी भारतीय क्रिकेट इतिहास में सबसे महान क्रिकेटरों में से एक के रूप में याद किया जाता है।

सचिन किस क्रम मे बैटिंग किया करते थे?

सचिन तेंदुलकर ने आमतौर पर भारतीय क्रिकेट टीम के लिए शीर्ष क्रम में बल्लेबाजी की। टेस्ट क्रिकेट में, उन्होंने ज्यादातर नंबर 4 या नंबर 5 पर बल्लेबाजी की, हालांकि उन्होंने कई मौकों पर सलामी बल्लेबाज के रूप में भी बल्लेबाजी की। एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैचों में, सचिन ने अपने अधिकांश करियर के लिए भारत के लिए ओपनिंग की, हालांकि उन्होंने कुछ मैचों में नंबर 4 या नंबर 5 पर भी बल्लेबाजी की। सचिन की विभिन्न स्थितियों और भूमिकाओं के अनुकूल होने की क्षमता ने उन्हें एक बहुमुखी बल्लेबाज बना दिया, और वे टेस्ट और एकदिवसीय क्रिकेट दोनों में समान रूप से प्रभावी थे। बल्लेबाजी की उनकी आक्रामक और आक्रामक शैली ने अक्सर भारत को तेज शुरुआत दी।

क्या सचिन तेंदुलकर ने कपिल देव के साथ अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेले हैं?

जी हां, सचिन तेंदुलकर भारतीय क्रिकेट टीम में कपिल देव के साथ खेले। कपिल देव एक महान भारतीय ऑलराउंडर थे, जो 1978 से 1994 तक भारत के लिए खेले, जबकि सचिन ने 1989 में अपनी शुरुआत की और 2013 तक खेले। कपिल देव भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान थे, जब भारत ने अपना पहला विश्व कप जीता था। 1992 का विश्व कप भी शामिल था, जहाँ कपिल देव भारतीय टीम के सदस्य थे और सचिन एक उभरते हुए सितारे थे। दोनों खिलाड़ियों को व्यापक रूप से भारतीय क्रिकेट के दिग्गज के रूप में माना जाता है, और खेल में उनके योगदान को अभी भी दुनिया भर के क्रिकेट प्रशंसकों द्वारा याद किया जाता है।

Keyword- सचिन तेंदुलकर की कुल संपत्ति, सचिन तेंदुलकर का छोटा सा परिचय, सचिन तेंदुलकर टोटल शतक, सचिन तेंदुलकर कहां तक पढ़े हैं, सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न कब मिला, सचिन तेंदुलकर की बेटी का नाम, सचिन तेंदुलकर के खेल-कूद से जुड़े आंकड़े, सचिन तेंदुलकर किस राज्य के हैं, सचिन को सबसे ज्यादा किसने आउट किया, सचिन तेंदुलकर ने कितने विकेट लिए हैं, सचिन तेंदुलकर किस प्रकार के बॉलर थे, सचिन ने 200 रन कब बनाए थे, सचिन तेंदुलकर की पत्नी कौन हैं, सचिन ने कितने अवधि तक क्रिकेट खेला हैं, सचिन तेंदुलकर को मास्टर ब्लास्टर क्यो कहा जाता हैं, सचिन इंडियन क्रिकेट टीम के कप्तान कब बने थे, सचिन किस क्रम मे बैटिंग किया करते थे, क्या सचिन तेंदुलकर ने कपिल देव के साथ अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेले हैं,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *