एप्सम साल्ट पौधों के लिए,एप्सम साल्ट में कौन से खनिज होते हैं?,एप्सम साल्ट और सेंधा नमक में क्या अंतर हैं?,पौधो के लिए एप्सम नमक का उपयोग कैसे करे?,मैं अपने टमाटर के पौधो में कितना एप्सम नमक डालू?,पत्तियों का पीलापन किसकी कमी के कारण होता हैं?,एप्सम साल्ट कहां मिलता है

एप्सम साल्ट पौधों के लिए | Epsom Salt Paudhon ke liye

एप्सम साल्ट पौधों के लिए

एप्सम नमक में मैग्नेशियम और सल्फर होता हैं और यह दोनों खनिज पौधे के विकास के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं। एप्सम नमक का एक प्रकार होता हैं लेकिन यह खाने वाले नमक से बिलकुल अलग होता हैं। एप्सम नमक को पानी मे डालकर पौधे में छिड़का जाता हैं। इस नमक के मिले हुये पानी से छिड़काव करने की वजह से पौधो मे लगे घोंघे और स्लग की समस्या दूर होती हैं।

एप्सम नमक के पानी छिडकावसे पेड़ो मे लगे कीट मकर जाते है और पौधो को पोषण सही तरीके से मिलने लगता हैं, जिसकी वजह से पेड़-पौधो का विकास तेजी से होता हैं।

एप्सम साल्ट में कौन से खनिज होते हैं?

एप्सम साल्ट एक प्रकार का नमक हैं जिसका वैज्ञानिक नाम “Hydrated Magnesium Sulfate” हैं। कई शोध में यह बताया गया हैं की पौधे में एप्सम साल्ट डालने से पौधे को जरूरी पोषण मिलता हैं।

लेकिन यहाँ पर यह ध्यान देने वाली बात यह हैं की बहुत से लोगो को यह भ्रम होता हैं की एप्सम नमक सेंधा नमक को ही कहते हैं जो की पूर्णतःगलत धारणा हैं। सेंधा नमक और एप्सम नमक पूरी तरह से अलग-अलग होते हैं। सेंधा नमक और एप्सम नमक दिखने मे एक जैसे ही होते हैं लेकिन दोनों मे पाये जाने वाले रसायन एकदम अलग होते हैं।

See also  ओज़ोन परत का परिचय एवं क्षरण: एक गंभीर समस्या

एप्सम साल्ट और सेंधा नमक में क्या अंतर हैं?

कई लोग एप्सम साल्ट को ही सेंधा नमक समझ लेते हैं परंतु दोनों अलग हैं। एप्सम साल्ट में मैग्नेशियम सल्फेट होता हैं जबकि सेंधा नमक में सोडियम क्लोराइड होता हैं।

पौधो के लिए एप्सम नमक का उपयोग कैसे करे?

एप्सम साल्ट को एक कप में लेकर उसे पाँच गैलन पानी में मिला कर पानी के उस घोल से पौधो पर छिडकाव करने से पेड़-पौधो मे लगने वाले कीट-घोंघो से मुक्ति मिलती हैं और पेड़-पौधे जल्दी से विकास करते हैं।

मैं अपने टमाटर के पौधो में कितना एप्सम नमक डालू?

एक लीटर पानी में लगभग एक छोटा चम्मच एप्सम नमक लेकर मिला लें, फिर उस पानी के मिश्रण को स्प्रे बॉटल मे भर कर दो सप्ताह मे टमाटर के पत्तों पर एप्सम नमक के घोल से बने पानी का छिड़काव करे। गर्मी, धूप या फिर बारिश के आने पर एप्सम नमक के पानी का छिड़काव करने से बचे।

ज्यादा पानी देने से या फिर भरी बारिश की वजह से पौधो को मैग्नेशियम नहीं मिल पाता हैं। जिन पौधो को मैग्नेशियम की कमी होती हैं। उन पौधो के पत्ते पीले रंग के हो जाते हैं। मैग्नेशियम की कमी को दूर करने के लिए एप्सम नमक के घोल का पानी  पौधो में छिड़कना चाहिए।

पत्तियों का पीलापन किसकी कमी के कारण होता हैं?

कई बार पौधो की उम्र बढ़ने के कारण पट्टियों का रंग पीला पड़ता हैं। लेकिन ज़्यादातर मौको पर पौधो के पत्तों का पीलापन खनिज की कमी की वजह से होता हैं। अगर पौधो को नाइट्रोजन, लोहा या फिर मैग्नेशियम नहीं मिल पा रहा हैं तब पौधो की पत्तियों का रंग पीला पड़ने लगता हैं।

See also  सपने में बेशरम का फूल देखना और बेशर्म फूल का इतिहास और परिचय

एप्सम साल्ट कहां मिलता है

एप्सम साल्ट छोटे से पैकेट में आता हैं, यह किसी भी बीज भंडार या फिर मेडिकल स्टोर मे मिल जाएगा। इसका इस्तेमाल करने से पहले किसी विशेषज्ञ से राय जरूर ले।

Keyword- एप्सम साल्ट पौधों के लिए,एप्सम साल्ट में कौन से खनिज होते हैं?,एप्सम साल्ट और सेंधा नमक में क्या अंतर हैं?,पौधो के लिए एप्सम नमक का उपयोग कैसे करे?,मैं अपने टमाटर के पौधो में कितना एप्सम नमक डालू?,पत्तियों का पीलापन किसकी कमी के कारण होता हैं?,एप्सम साल्ट कहां मिलता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *