शरद पुर्णिमा कब हैं, शरद पुर्णिमा को क्या करे, sharad purnima kab hain, sharad purnima ko kya kare

शरद पुर्णिमा मे क्या करना चाहिए, इस बार 9 अक्टूबर को हैं शरद पुर्णिमा | Sharad Purnima 2022

कब हैं शरद पुर्णिमा? | kab hain sharad purnima 2022

इस बार शरद पुर्णिमा रविवार के दिन 9 अक्टूबर 2022 को है। शरद पूर्णिमा (sharad purnima 2022) हिंदू धर्म का एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन माना जाता है। अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को  ही शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। इस पूर्णमासी से सर्दी की ऋतु का आगमन मान लिया जाता है।

शरद पूर्णिमा का सबसे शुभ मुहूर्त रविवार के दिन सुबह 3: 41 से प्रारंभ होता है जो कि 10 अक्टूबर दिन सोमवार को सुबह 2:25 तक रहेगा।

शरद पुर्णिमा क्यो खास हैं?

शरद पूर्णिमा के दिन लोग दूध से बनी खीर को छत पर चंद्रमा की रोशनी पर रखते हैं। और अगले सुबह को खाली पेट प्रसाद के रूप में उस खीर का सेवन करते हैं। माना जाता हैं की शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा से निकालने वाली रोशनी के साथ अमृत की वर्षा होती है, और वह अमृत बुंदों के रूप मे धरती मे गिरती हैं। इस लिए सनातन धर्म को मानने वाले लोग दूध की बनी खीर को छत मे रख कर शरद पुर्णिमा के दिन गिरने वाली अमृत की बुंदों को खीर मे गिरने देते हैं। मान्यता हैं की शरद पुर्णिमा के दिन छत मे रखे हुये खीर मे अमृत गिरने की वजह से वह खीर औषधि का रूप ले लेती हैं। उस खीर को सेवन करने वाला निरोगी होता हैं, तथा अगर कोई रोगी उस खीर को खा लेता हैं तो उसके रोग दूर हो जाते हैं।

लेकिन शरद पुर्णिमा के दिन हमे कुछ बातों का ध्यान रखना होता हैं जो नीचे दी गई हैं।

See also  वृश्चिक राशि की लड़कियां का स्वभाव कैसा होता हैं? आइये जानते है

शरद पुर्णिमा के दिन ध्यान रखने वाली बाते

  1. शरद पुर्णिमा के दिन जिस खीर को बनाया जाता हैं उस खीर मे देशी गाय का दूध इस्तेमाल करना अनिवार्य हैं।
  2. खीर को ऐसे रखे की उसमे चंद्रमा से आने वाली अमृत की बुँदे खीर मे गिर सके।
  3. शरद पुर्णिमा को लक्ष्मी पुर्णिमा के नाम से भी जाना जाता हैं। इस दिन बहुत से जगहो मे लक्ष्मी की पूजा की जाती हैं।
  4. केवल शरद पूर्णिमा के दिन ही चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से सज्जित होता है और इस पुर्णिमा के दिन वह पृथ्वी के सबसे ज्यादा नजदीक भी होता हैं। चंद्रमा की किरणों से इस पूर्णिमा को अमृत बरसाती है।
  5. सभी आयुर्वेद के ज्ञाता इस दिन का पूरे वर्ष इंतेजर करते हैं। इस दिन आयुर्वेद के ज्ञाता अपनी सारी जड़ी-बूटियों को शरद पूर्णिमा की चांदनी में रखते हैं। अजिससे सभी जड़ी-बूटी मे अमृत की बुँदे पड़ जाए और रोगी को वह जड़ी-बूटी लाभ दिला सके।
  6. प्राचीन सनातन ग्रंथो मे चंद्रमा को औषधीश यानी की सभी औषधियों का स्वामी कहा गया है।
  7. ब्रह्मपुराण मे बताया गया हैं की चंद्रमा से नकलने वाले प्रकाश जब धरती से टकराते हैं तो वो प्राणो की रक्षा करने वाले औषधि को जन्म देती हैं।मान्यता हैं की शरद पुर्णिमा के दिन चंद्रमा से निकलने वाला प्रकाश जब धरती से टकराता हैं तो उस समय जब फल देने वाले औषधि बहुत ही प्रभावी होते हैं।

शरद पुर्णिमा क्यो खास हैं?

ऐसा माना जाता हैं की शरद पुर्णिमा (Sharad Purnima 2022) के दिन भगवान श्री कृष्ण ने गोपियो के दिन महारास का आयोजन किया था, इस महारास मे भगवान कृष्ण ने गोपियो को अपना दिव्य रूप दिखाया था। वैज्ञानिक दृष्टि से शरद पुर्णिमा के दिन चन्द्र पृथ्वी के सबसे निकट होता हैं।

See also  तुलसी किस दिन लगाना चाहिए | Tulsi kis din lagana chahiye

सभी पुर्णिमा मे शरद पुर्णिमा (Sharad Purnima 2022) को सबसे श्रेष्ठ माना गया हैं। शरद पुर्णिमा के दिन माता लक्ष्मी और गणेश भगवान पृथ्वी लोक मे भ्रमण करने के लिए आते हैं और दीपावली तक पृथ्वी मे माता लक्ष्मी और भगवान गणेश भ्रमण करते हैं और भक्तो को खुश रहने का आशीर्वाद देते हैं।

शरद पुर्णिमा और रावण का किस्सा

पुरानी मान्यता हैं की शरद पुर्णिमा के दिन रावण दर्पण का इस्तेमाल करके शरद पुर्णिमा के दिन चंद्रमा से बरसने वाले अमृत को एकत्रित करके अपने नाभि मे रख लिया करता था। नाभि मे अमृत को रखने से रावण फिर से युवा हो जाया करता था और उसकी शक्तियों मे और वृद्धि हो जाया करती थी।

शरद पूर्णिमा के दिन करें फिटकरी का अचूक उपाय

अगर कोई व्यक्ति अमीर बनना चाहता है तो वह शरद पूर्णिमा के दिन फिटकरी से संबंधित कुछ उपाय करें तो उसके भाग्य में धन की वर्षा हो सकती है। 2022 में शरद पूर्णमासी 9 अक्टूबर 2022 को मनाई जाएगी। शरद पूर्णिमा अश्विन महीने के शुक्ल की पूर्णिमा को मनाया जाता है।

फिटकरी का रंग सफेद होता है इसके साथ ही ज्योतिष शास्त्र में सफेद रंग की वस्तुओं को चंद्रमा से जोड़कर माना जाता है। इसलिए शरद पूर्णिमा के दिन एक बाल्टी में फिटकरी को मिलाकर खुले आसमान के नीचे रख दीजिए और अगले दिन सुबह उस पानी से स्नान कर लीजिए, इससे शरीर में मौजूद बीमारियों का नाश तो होगा ही, उसके साथ ही शरीर के बाहर मौजूद सभी नकारात्मक शक्ति बाहर हो जाएंगे और इंसान मन से मजबूत होने लगेगा जिससे वह बड़े-बड़े कार्य को आसानी से कर सकते हैं।

अगर कोई व्यक्ति पैसों की तंगी से जूझ रहा है और वह अपने आसपास मौजूद नकारात्मक शक्ति को हटाकर सकारात्मक शक्ति को भरना चाहता है जिससे वह भी धनवान बन सके और बड़ा आदमी बन सके तो इसके लिए शरद पूर्णिमा के दिन उस व्यक्ति को फिटकरी का एक छोटा सा टुकड़ा सफेद कपड़े में बांधकर अपने पर्स में रख लें, ऐसा करने से उस व्यक्ति के आसपास मौजूद सभी नकारात्मक शक्तियों का पतन होने लगेगा और देखते-देखते धन के आने के कई सूत्रों का निर्माण होगा।

See also  मंगलवार के व्रत में नमक खाना चाहिए या नहीं

डिस्क्लेमर यहां पर दी गई जानकारी हिंदू धर्म में मौजूद सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है इसकी सत्यता की पुष्टि हमारी वेबसाइट मेरी बातें डॉट इन नहीं करती है।

सपनों का अर्थ जानने के लिए एंडरोइड एप इन्स्टाल करे – Sapno ka Arth Android App

2 comments

  1. sharad purnima के बारे मे बहुत ही रोचक जानकारी इस पोस्ट मे बताई गई हैं, मुझे पढ़ कर कई बातों का पता चला हैं

  2. dhanyavaad batane ke liye is baar sharad purnima 2022 9 octuber 2022 ko hain. mujhe jaan kar bahut achcha laga.aapko sharad purnima ki badhai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *