सफेद कबूतर का घर में आना

घर में सफेद कबूतर आना बहुत ही शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जिस घर में सफेद कबूतर आकर बैठते हैं उस घर में हमेशा सौभाग्य बना रहता है तथा घरवालों का जीवन सुख में बितता है।

कुछ लोगों का यह मानना है कि कबूतर के घर आने से उस घर में हमेशा लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है तथा कबूतर का घर में आना एक शुभ संकेत है लेकिन बहुत से लोग यह भी मानते हैं कि कबूतर का घर में बार-बार आना और घर में घोंसला बनाना दुर्भाग्य का संकेत है। शकुन शास्त्र के अनुसार यह माना जाता है कि अगर कबूतर घर में घोंसला बनाए तो यह अच्छा संकेत नहीं है। अगर कबूतर घर में घोंसला बनाता है तो यह घर में दुर्भाग्य के आने का संकेत माना जाता है। घर के सदस्यों की आर्थिक स्थिति कमजोर होती है।

घर में कबूतर का बोलना शुभ या अशुभ

कबूतर को शांति का प्रतीक माना जाता हैं लेकिन माना जाता हैं की अगर कबूतर घर में आकर बोले तो इसका मतलब अशुभ संकेत माना जाता हैं। हालांकि कबूतर का घर में आना बहुत शुभ माना जाता हैं।

जिस घर में पति पत्नी के बीच लड़ाई झगडे होते हो उन्हें रविवार के दिन कबूतर की लीद का धुआं करके पूरे घर में घुमाने से पति पत्नी के बीच होने वाले लड़ाई झगडे में कमी आती हैं।

See also  फरवरी 2023 मे सप्तमी कब हैं? | february 2023 me saptami kab hai?

कबूतर कौन से भगवान की सवारी है?

शास्त्रो में बताया गया हैं की कबूतर कामदेव की पत्नी देवी रति की सवारी हैं। रति देवी को सौन्दर्य की देवी माना जाता हैं। रति देवी गंधर्व देवताओ की पुत्री हैं, और इनका विवाह प्रेम के देवता काम देव के साथ हुआ हैं।
अगर दाम्पत्य जीवन मे किसी प्रकार की कोई कठनाई का सामना करना पड़ रहा है तब ऐसी स्थिति में दंपत्ति को रोजाना नियमित रूप से कबूतर को खाने के लिए ज्वार देना चाहिए। ऐसा माना जाता हैं की कबूतर को प्रतिदिन ज्वार खिलाने से दाम्पत्य जीवन में आने वाले संकट दूर हो जाते हैं। इसके साथ जिन लोगो की शादी मे देरी हो रही हैं ऐसे लोगो को कबूतर की आकृति को माला के रूप मे धारण करना चाहिए या फिर कबूतर की तस्वीर को शर्ट की ऊपर वाली जेब मे रखना चाहिए।

कबूतर को क्या खिलाने से क्या लाभ होता हैं-

  1. अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में राहू-केतू कमजोर है तो उस व्यक्ति को रोजाना कबूतर को बाजरा के दाने खिलाने से कुंडली मे मौजूद राहू-केतू की स्थिति मजबूत होती हैं। अगर किसी व्यक्ति के कुंडली मे राहू कमजोर हैं तो उसकी पहचान यह हैं की वह व्यक्ति अवसाद (डिप्रेसन) में चला जाता हैं। इसके अलावा छोटे छोटे कामो में भी वह कंफियूज रहता हैं। उस व्यक्ति के अंदर से धीरे धीरे करके उत्साह कम होने लगता हैं और वह लगातार उदास या फिर अवसाद से पीड़ित रहता हैं। राहू से पीड़ित व्यक्ति के घर में जानवर की मृत्यु लगातार होती ही रहती हैं।
  2. अगर किसी व्यक्ति की कुंडली मे बृहस्पति या फिर चंद्रमा की स्थिति कमजोर हैं तो उस व्यक्ति को नियमित रूप से कबूतर को चावल खिलना चाहिए। चावल खिलाने से कुंडली मे मौजूद बृहस्पति मजबूत होता हैं। जिन व्यक्ति का बृहस्पति कमजोर होता हैं वो लोग ज्ञान की कमी से पीड़ित रहते हैं, इसके अलावा अगर कोई व्यक्ति आँख, गले, कान, फेफड़े आदि के बीमारियों से ग्रसित हैं तो इसका अर्थ यह हो सकता हैं की उस व्यक्ति का बृहस्पति कमजोर हैं।
  3. उम्र बीत रही हैं लेकिन शादी का रिश्ता अभी तक फिट नहीं हुआ हैं और शादी मे देर होती जा रही हैं तब ऐसे लोगो को कबूतर को ज्वार के दाने खिलाने के लिए देना चाहिए। ऐसा करने से शादी मे आ रही अड़चन दूर होती हैं।
See also  रविवार के दिन भूलकर भी न खरीदें ये चीजें, घर मे गरीबी का होगा प्रवेश

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.यहां यह बताना जरूरी है कि meribaate.in किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Keyword- सफेद कबूतर का घर में आना, कबूतर का घर में आना क्या संकेत देता है, कबूतर का घर में आना शुभ या अशुभ, कबूतर का घर में आना शुभ है या अशुभ, घर में सफेद कबूतर का आना, safed kabootar ghar mein aana, कबूतर का घर में घोंसला बनाना, घर में कबूतर का आना शुभ है या अशुभ, कबूतर घर में आना, कबूतर का घर में अंडे देना, कबूतर घर में आना शुभ है या अशुभ, कबूतरों का घर में आना शुभ या अशुभ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *