थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना,     थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना कितने लोग प्रभावित हुये थे,     विश्व भर मे प्रसिद्ध परमाणु दुर्घटना,     थ्री माइल आइलैंड के लिए किसे दोषी ठहराया गया था,

थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना | Three Mile Island Accident

थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना

थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना 28 मार्च, 1979 को संयुक्त राज्य अमेरिका के पेनसिल्वेनिया राज्य में थ्री माइल आईलैंड परमाणु ऊर्जा संयंत्र में हुई एक परमाणु आपदा थी। यह संयुक्त राज्य अमेरिका में पहली बड़ी परमाणु दुर्घटना थी और दुनिया भर में परमाणु ऊर्जा के प्रति सार्वजनिक राय में एक महत्वपूर्ण बदलाव लाया। दुर्घटना थ्री माइल आईलैंड, यूनिट 2 (TMI-2) रिएक्टर में हुई थी, जो कि सुसेक्साना नदी पर स्थित है। यह सुबह 4:00 बजे शुरू हुआ और रेडियोधर्मी गैसों और रेडियोधर्मी आयोडीन वातावरण में फैलाने लगा था।

दुर्घटना के कारणों की जांच के बाद, न्यूक्लियर रेगुलेटरी कमीशन (NRC) ने निष्कर्ष निकाला कि इस दुर्घटना के कई कारण थे जो नीचे दिये जा रहे हैं-

  1. रिएक्टर के डिजाइन में दोष, जैसे कि आपातकालीन प्रणाली की कमी
  2. ऑपरेटरों द्वारा त्रुटियां, जैसे कि आपातकालीन प्रक्रियाओं को सही ढंग से लागू करने में विफलता
  3. रखरखाव की कमी

दुर्घटना के परिणामस्वरूप रिएक्टर में आंशिक रूप  से पिघलना शुरू हो गया था। रिएक्टर के अंदर का कुछ कोर पिघल गया और रिएक्टर के टैंक के नीचे गिर गया। इसने कुछ रेडियोधर्मी सामग्री को वातावरण मे छोड़ दिया था। दुर्घटना के बाद, TMI-2 रिएक्टर को बंद कर दिया गया था और इसे कभी भी फिर से शुरू नहीं किया गया था। संयंत्र के शेष रिएक्टरों को भी कई सुरक्षा उपायों के साथ बंद कर दिया गया था।

दुर्घटना के स्वास्थ्य प्रभावों के बारे में चिंता थी, लेकिन कोई महत्वपूर्ण दीर्घकालिक प्रभाव नहीं पाया गया। हालांकि, दुर्घटना ने परमाणु ऊर्जा के प्रति सार्वजनिक राय को प्रभावित किया। कई लोगों ने परमाणु ऊर्जा के बारे में चिंता व्यक्त की और कई देशों में परमाणु ऊर्जा कार्यक्रमों को धीमा कर दिया गया या रद्द कर दिया गया।

See also  एयरटेल 4g की स्पीड कैसे बढ़ाएं

थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना कितने लोग प्रभावित हुये थे

एनआरसी के द्वारा दावा किया गया हैं की इस दुर्घटना मे किसी के प्राण नहीं गए थे, तथा रेडियोएक्टिव के संपर्क की वजह से किसी को स्वास्थ्य संसयाए भी नहीं हुई थी। थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना से सीधे तौर पर प्रभावित लोगों की संख्या का कोई सटीक अनुमान नहीं है। लेकिन कई विशेषज्ञो का मानना हैं की , लगभग 140,000 लोग दुर्घटना से प्रभावित हुए होंगे। इनमें से अधिकांश लोग पेनसिल्वेनिया राज्य के हर्षबर्ग और उसके आसपास के क्षेत्र के निवासी थे।

दुर्घटना के बाद, कई लोग अपने घरों को छोड़ने के लिए मजबूर हुए। उन्हें रेडियोधर्मी प्रदूषण के डर से निकाला गया था। इन लोगों में से कई को पुनर्वास की आवश्यकता थी, जिसमें नए घर खोजना, नौकरी खोजना और स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करना शामिल था। दुर्घटना के दीर्घकालिक स्वास्थ्य प्रभावों के बारे में चिंता अभी भी बनी हुई है। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि दुर्घटना से बच्चों में ल्यूकेमिया और अन्य कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।

थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना एक गंभीर घटना थी जिसने कई लोगों के जीवन को प्रभावित किया। यह दुर्घटना ने परमाणु ऊर्जा के प्रति सार्वजनिक राय को भी प्रभावित किया और परमाणु ऊर्जा कार्यक्रमों को धीमा कर दिया या रद्द कर दिया गया।

विश्व भर मे प्रसिद्ध परमाणु दुर्घटना

विश्व भर में कई परमाणु दुर्घटनाएं हुई हैं, जिनमें से कुछ बहुत ही गंभीर थीं। इन दुर्घटनाओं ने कई लोगों की जान ली और पर्यावरण को भारी नुकसान पहुंचाया।

  1. थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना : थ्री माइल आईलैंड दुर्घटना 28 मार्च, 1979 को संयुक्त राज्य अमेरिका के पेनसिल्वेनिया राज्य में थ्री माइल आईलैंड परमाणु ऊर्जा संयंत्र में हुई थी। यह संयुक्त राज्य अमेरिका में पहली बड़ी परमाणु दुर्घटना थी।
  2. चर्नोबिल दुर्घटना : चर्नोबिल दुर्घटना 26 अप्रैल, 1986 को सोवियत संघ के यूक्रेन गणराज्य में चेर्नोबिल परमाणु ऊर्जा संयंत्र में हुई थी। यह दुनिया की सबसे भीषण परमाणु दुर्घटना थी और इसके परिणामस्वरूप बड़े पैमाने पर रेडियोधर्मी प्रदूषण हुआ।
  3. फुकुशिमा दाइइची दुर्घटना : फुकुशिमा दाइइची दुर्घटना 11 मार्च, 2011 को जापान के फुकुशिमा प्रीफेक्चर में फुकुशिमा दाइइची परमाणु ऊर्जा संयंत्र में हुई थी। यह जापान में पहली बड़ी परमाणु दुर्घटना थी
See also  कहानी लिखने के नियम क्या है

थ्री माइल आइलैंड के लिए किसे दोषी ठहराया गया था?

  1. थ्री माइल आइलैंड दुर्घटना के लिए किसी व्यक्ति या संगठन को दोषी नहीं ठहराया गया था। हालांकि, न्यूक्लियर रेगुलेटरी कमीशन (NRC) ने निष्कर्ष निकाला कि दुर्घटना कई कारकों का परिणाम थी, जिनमें शामिल हैं:
  2. NRC ने निष्कर्ष निकाला कि रिएक्टर के डिजाइन में दोष थे जो दुर्घटना के लिए एक महत्वपूर्ण कारक थे। उदाहरण के लिए, रिएक्टर में एक आपातकालीन शीतलन प्रणाली थी जो पर्याप्त शक्तिशाली नहीं थी।
  3. NRC ने यह भी निष्कर्ष निकाला कि ऑपरेटरों ने दुर्घटना को रोकने के लिए आवश्यक कदम नहीं उठाए। उदाहरण के लिए, उन्होंने आपातकालीन प्रक्रियाओं को सही ढंग से लागू करने में विफलता की।
  4. NRC ने यह भी निष्कर्ष निकाला कि रखरखाव की कमी दुर्घटना के लिए एक कारक थी। उदाहरण के लिए, रिएक्टर में कुछ उपकरणों की मरम्मत की आवश्यकता थी, लेकिन ऐसा नहीं किया गया था।
  5. NRC ने इन निष्कर्षों के आधार पर सिफारिश की कि रिएक्टरों के डिजाइन में सुधार किया जाए और ऑपरेटरों को बेहतर प्रशिक्षण दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *