हनुमान जन्मोत्सव 2023 | Hanuman janmotsav 2023

इस वर्ष 2023 में हनुमान जन्मोत्सव अप्रैल के महीने मे 6 अप्रैल को गुरुवार के दिन बड़ी ही धूम धाम से मनाया जाएगा। इस दिन पूरे भारत मे हनुमान मंदिर को भव्य तरीको से सजाया जाता हैं और भंडारे के आयोजन किए जाते हैं। हनुमान जी भगवान शिव के रुद्रावतार हैं तथा भगवान राम के अनन्या भक्त हैं। हनुमान जी को कलयुग का राजा भी कहा जाता हैं। ऐसा माना जाता हैं की भगवान हनुमान जी का जन्म चैत्र महीने की पुर्णिमा के दिन हुआ था। इसलिए प्रत्येक वर्ष चैत्र महीने की पूर्णमासी के दिन हनुमान जयंती या फिर हनुमान जन्मोत्सव मनाया जाता हैं।

साल मे हनुमान जयंती दो बार क्यो मानते हैं?

वास्तव मे ये लोगो का भ्रम हैं, भगवान हनुमान जी का जन्मोत्सव वर्ष मे एक बार ही मनाया जाता हैं और वो भी कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को । इस दिन को ही हनुमान जयंती भी कहा जाता हैं, लेकिन एक कथा के अनुसार हनुमान जी आकाश मे उड़ कर सूर्य को निगल लिया था। जिससे इंद्रा देव रुष्ट होकर हनुमान जी पर वज्र से प्रहार कर दिया था। इस वज्र के प्रहार से आघात लगाने पर हनुमान जी मूर्छित होकर धरती पर आ गिरे थे। हनुमान जी के मूर्छित होने की वजह से पवन देव को बहुत क्रोध आया क्योंकि हनुमान जी पवनपुत्र भी कहलाते हैं। पवन देव ने सारे विश्व की प्राण वायु को रोक दिया, जिसकी वजह से हर तरह हाहाकार मच गया।

See also  सपने में गाय देखना | sapne me gaye dekhna

तब जगत निर्माता ब्रम्हा जी स्वयं प्रकट होकर पवन देव को समझाया और हनुमान जी की मुरछा को दूर किया। उसी समय से हनुमान जन्मोत्सव का पर्व मनाने की प्रथा प्रारम्भ हो गई थी। क्योंकि हनुमान जी उस दिन नया जीवनदान मिला था।

क्या रावण हनुमान जी को खड़ा सकता था

नहीं क्योंकि हनुमान जी को वरदान है कि उन्हें कोई भी अस्त एवं शस्त्र आघात नहीं कर सकते हैं। ना ही वो किसी बंधन पर बन सकते हैं। रावण भगवान शंकर का अनन्य भक्त था। और हनुमान जी शंकर भगवान के 11 रुद्र अवतार हैं इसलिए रावण हनुमान जी से कभी भी युद्ध में नहीं जीत पता।

हनुमान जी प्रसन्न करने के तरीके

  1. हनुमान जन्मोत्सव के दिन हनुमान जी की पुजा के समय इस मंत्री को जरूर जप करे, इस मंत्रो को जप करने से हनुमान जी जल्दी प्रसन्न होते हैं। मंत्र ये रहा – ॐ हं हनुमंते रुद्रात्मकाय हुं फट्
  2. हनुमान जन्मोत्सव के दिन सुंदरकांड का पाठ करने से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और कष्टो का नाश करते हैं।
  3. हनुमान जन्मोस्ताव के दिन हनुमान मंदिर मे जाकर, भगवान हनुमान जी को सिंदूर और चमेली का तेल का लेप करने से भगवान जल्दी प्रसन्न होकर भक्त के कष्टो को हरते हैं।

Keyword- हनुमान जन्मोत्सव 2023, जय हनुमान जन्मोत्सव, श्री हनुमान जन्मोत्सव, हनुमान जन्मोत्सव 2023, हनुमान जन्मोत्सव कब है, हनुमान जन्मोत्सव 2023 कब है, हनुमान जन्मोत्सव चौपाई, हनुमान जन्मोत्सव कब का है, हनुमान जयंती 2023, हनुमान जयंती 2023 कब है, हनुमान जयंती 2023 में कब है, हनुमान जयंती 2023 कब की है, हनुमान जयंती 2023 तारीख और समय, हनुमान जयंती 2023 का कब है, हनुमान जयंती 2023 में कब की है, 2023 mein hanuman jayanti, 2023 mein hanuman jayanti kab hai, आज हनुमान जयंती

See also  अपने नाम के पहले अक्षर से जानिए अपना भविष्य

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *