‘अक्षय तृतीया’ (Akshaya Tritiya) हिंदुओं का प्रसिद्ध त्योहार है। इसे ‘अखा तीज’ के नाम से भी जाना जाता है। यह हिंदू कैलेंडर के अनुसार वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया को पड़ता है। यह पूरे भारत में मनाया जाता है।

अक्षय तृतीया भगवान परशुराम के जन्मदिन का एक शुभ दिन है। परशुराम भगवान विष्णु के छठे अवतार हैं। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, अक्षय तृतीया वह दिन था जब ज्ञान और बाधा निवारण के देवता गणेश ने वेद व्यास के श्रुतलेख के लिए महाकाव्य महाभारत लिखना शुरू किया था।

‘अक्षय’ शब्द का अर्थ है अनंत और ‘तृतीया’ का अर्थ है तीसरा। इसलिए यह दिन सौभाग्य और सफलता लाने वाला माना जाता है। इस दिन लोग विशेष पूजा करते हैं। आजकल यह दिन नए उद्यम शुरू करने के लिए शुभ माना जाता है। अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है।

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) के दिन बद्रीनाथ की मूर्ति की पूजा की जाती है और लक्ष्मी-नारायण की पूजा की जाती है। पौराणिक कथा के अनुसार इसी तिथि को महाभारत का युद्ध समाप्त हुआ था। द्वापर युग की समाप्ति भी इसी तिथि को हुई थी। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार इस दिन जो भी पुण्य किए जाते हैं, उनका फल अक्षय होता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन किया गया दान, हवन, पूजा या अभ्यास अक्षय (पूर्ण) होता है।

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) की तिथि को बहुत ही शुभ माना जाता है, इस तिथि को बिना किसी पंचांग के कोई भी शुभ एवं मांगलिक कार्य जैसे विवाह, गृह प्रवेश, वस्त्र, आभूषण, वाहन तथा घर आदि की खरीददारी की जा सकती है।

अक्षय तृतीया के दिन लोग क्या करते हैं?

  1. विष्णु के भक्त इस दिन व्रत रखकर देवता की पूजा करते हैं। बाद में गरीबों को चावल, नमक, घी, सब्जियां, फल और कपड़े बांटकर दान किया जाता है। भगवान विष्णु के प्रतीक के रूप में चारों ओर तुलसी के पत्ते का उपयोग करके पानी का छिड़काव किया जाता है।
  2. पूर्वी भारत में, यह दिन आगामी फसल के मौसम के लिए पहली जुताई के दिन के रूप में शुरू होता है। साथ ही, व्यवसायियों के लिए, अगले वित्तीय वर्ष के लिए एक नई ऑडिट बुक शुरू करने से पहले भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इसे ‘हलखाता’ के नाम से जाना जाता है।
  3. इस दिन बहुत से लोग सोने और सोने के आभूषण खरीदते हैं। चूंकि सोना सौभाग्य और धन का प्रतीक है, इसलिए इस दिन इसे खरीदना पवित्र माना जाता है। लोग इस दिन शादियों और लंबी यात्राओं की योजना बनाते हैं।
  4. इस दिन नए व्यापारिक उपक्रम, निर्माण कार्य शुरू होते हैं। अन्य अनुष्ठानों में गंगा में पवित्र स्नान करना, जौ को पवित्र अग्नि में अर्पित करना और इस दिन दान और प्रसाद देना शामिल है।
  5. जैन लोग इस दिन अपनी साल भर की तपस्या पूरी करते हैं और गन्ने का रस पीकर अपनी पूजा समाप्त करते हैं।
See also  sapne me aam dekhna | सपने में आम देखना - स्वप्नफल 2023

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) का इतिहास क्या हैं?

पौराणिक कथाओं और प्राचीन इतिहास के अनुसार Akshaya Tritiya कई महत्वपूर्ण घटनाओं का प्रतीक है

  1. भगवान गणेश और वेद व्यास ने इसी दिन महाकाव्य महाभारत की रचना की थी।
  2. इस दिन को भगवान विष्णु के छठे अवतार भगवान परशुराम की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है।
  3. इसी दिन देवी अन्नपूर्णा का जन्म हुआ था।
  4. इस दिन, भगवान कृष्ण ने अपने गरीब मित्र सुदामा को धन और धन लाभ दिया था।
  5. महाभारत के अनुसार, इस दिन भगवान कृष्ण ने वनवास के दौरान पांडवों को ‘अक्षय पत्र’ भेंट किया था। इस पात्र मे असीमित भोजन प्राप्त होगा।
  6. इस दिन गंगा नदी स्वर्ग से पृथ्वी पर अवतरित हुई थी।
  7. इस दिन है कि कुबेर ने देवी लक्ष्मी की पूजा की और इस प्रकार उन्हें देवताओं के कोषाध्यक्ष होने का काम सौंपा गया।
  8. जैन धर्म में, यह दिन उनके पहले भगवान भगवान आदिनाथ की याद में मनाया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *