tulsi ka pedh

घर मे तुलसी लगाने से पहले इन बातों का ध्यान रखे, वरना परेशान रहेंगे

तुलसी भारत के हर घर मे मिल जाती हैं, क्योंकि तुलसी पूजन के साथ-साथ औषधि के रूप मे भी इस्तेमाल होती हैं। यही कारण हैं की इसकी मौजूदगी लगभग हर घर मे हैं, बहुत से लोग तो चाय मे तुलसी डाल कर पीते हैं। चाय मे तुलसी का स्वाद बहुत ही अच्छा लगता हैं तथा चाय भी औषधियुक्त पेय बन जाती हैं।

लेकिन बहुत ही कम लोगो को पता होगा की तुलसी को लगाने के लिए उसके सही स्थान की जानकारी होना जरूरी हैं। अगर सही जगह पर तुलसी नहीं लगाई गई तो उसके नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से आज हम पढ़ेंगे की तुलसी कहाँ लगानी चाहिए। वास्तुशास्त्र के हिसाब से तुलसी को निम्न जगह मे लगाया जा सकता हैं।

तुलसी कहाँ लगानी चाहिए

  1. घर के आँगन मे
  2. घर के एकदम केंद्र भाग मे
  3. घर के पूर्वउत्तर दिशा मे
  4. घर के उत्तर दिशा मे

तुलसी के बारे मे अन्य महत्वपूर्ण बाते

तुलसी के साथ काँटेदार पौधा नहीं लगाना चाहिए, घर मे कोई भी काँटेदार पौधा नहीं लगाना चाहिए, बेल पत्र वाले पेड़ को छोड़ कर। अगर आपके घर मे बालकनी ही एक मात्र जगह हैं जो खुला हुआ हैं, तो उत्तर दिशा मे मौजूद बालकनी मे तुलसी के पौधे को लगाना चाहिए।

उत्तर-पूर्व दिशा मे धन के देवता कुबेर का वास होता हैं। इसलिए अगर आप तुलसी को उत्तर-पूर्व मे लगाते हैं तो घर मे धन की वृद्धि होना तय हैं। अगर घर मे तुलसी का पौधा लगा हुआ हैं तो उसकी रोजाना पूजा जरूर करे। अगर आप रोज शाम को तुलसी मे दीपक जलाते हैं तो महालक्ष्मी की कृपा आप पर बनेगी।

See also  कैला देवी मंदिर का परिचय एवं इतिहास | history of kela devi mandir

घर मे तुलसी लगाने से घर मे अगर वास्तु दोष था तो वह दूर हो जाता हैं। लेकिन ध्यान रखे जहां तुलसी का पौधा लगा हो, वहाँ साफ सफाई जरूरी हैं।

अगर आप तुलसी के पत्ते का इस्तेमाल चाय मे करते हैं, तो एकादशी, रविवार, अमावस्या और चंद्रग्रहण के दिन तुलसी के पत्तों को तोड़ने से बचे। मान्यता हैं की इस दिन तुलसी की पत्ती तोड़ने से पाप लगता हैं, इसलिए इन दिनो मे तुलसी की पत्ती तोड़ने से बचे।

तुलसी की पत्ती का सेवन करने से रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं। इस लिए संभव हो तो रोज तुलसी के पत्ती का सेवन करना चाहिए। अगर तुलसी का पौधा इतना बड़ा नहीं हैं की उसकी पत्ती का सेवन किया जा सके, तो बाजार मे तुलसी के अर्क आते हैं आप उन्हे खरीद कर उनका सेवन कर सकते हैं।

तुलसी का पौधा सुखने पर, उसकी सूखे हुये पौधो को नदी या तलाब मे प्रवाहित करना चाहिए। अगर घर मे तुलसी के कई पौधे हैं तो उन्हे विषम संख्या मे लगाना चाहिए।

तुलसी का पौधा जहां भी रखो वहाँ तुलसी के पास कूड़ेदान, झाड़ू या कचड़ा नहीं होना चाहिए।

तुलसी को कब लगाना चाहिए?

तुलसी को लगाने का सबसे उत्तम समय, कार्तिक का महिना हैं, कार्तिक के महीने मे ही दीपावली का त्योहार आता हैं। जिन लोगो को कार्तिक का महिना कब आता हैं, जानकारी ना हो तो वह दीपावली के अनुसार पता कर सकते हैं। क्योंकि दीपावली कार्तिक के महीने मे ही मनाया जाता हैं।

अगर शादी ना हो रही हो तो?

अगर आपकी शादी मे देर हो रही हो या फिर कोई अडचण आ रही हो तो, आप तुलसी के स्थान को बदलकर अग्नि कोण मे कर दे। और हर रोज जल चढ़ाये।

See also  सपने में खुद को प्रेग्नेंट देखना | sapne me khud ko pregnant dekhna

व्यापार मे घाटा लग रहा हैं तो?

अगर आपको व्यापार मे घाटा लग रहा हैं, नुकसान हो रहा हैं तो शुक्रवार को तुलसी को कच्चे दूध से स्नान कराये। तथा मीठे का भोग लगा कर किसी सुहागिन स्त्री को मीठी चीजे खिलाये।