logo of gitanjalididi.in

MERI BAATE

सिकन्दर का आक्रमण और उसके प्रभाव

इस लेख मे सिकंदर का संक्षिप्त परिचय को जानने के बाद हम सिकंदर का आक्रमण और उसके प्रभाव के बारे मे जानेंगे।तो आइए बिना देर करते हुये पढ़ते हैं इस लेख को। सिकन्दर का सामान्य एवं संक्षिप्त परिचय सिकन्दर प्राचीन यूनानी देश के एक छोटे-से राज्य मेसिडोनिया (मकदूनिया) के राजा फिलिप का पुत्र था। जब वह सिंहासन पर बैठा, तो अपने छोटे राज्य से सन्तुष्ट नहीं Read Full Article

कैसे गोवा भारत का हिस्सा बना? क्या हैं आपरेशन विजय? | Goa ki Azadi

Goa ki Azadi : हमारा देश 1947 मे अंग्रेजो से अजाद हो गया था। लेकिन फिर भी भारत का एक एसा भाग भी था जो आजद नही हुआ था। यहाँ पर हम गोवा राज्य की बात कर रहे है। जो की भारत की आजादी के 14 वर्ष बाद स्वतंत्र हुआ था। गोवा मे अंग्रेजो का शासन नही था बल्कि वहां पर पुर्तगालियों का शासन हुआ Read Full Article

भारत के प्रधानमंत्री की सूची | Bharat Ke Pradhanmantri Ka Naam

भारत के प्रधानमंत्री की सूची क्रम प्रधानमंत्री का नाम कार्यकाल पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू 15 अगस्त 1947 से 27 मई 1964 कार्यकारी गुलजारी लाल नन्दा 27 मई 1964 से 9 जून 1964 दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री 9 जून 1964 से 11 जनवरी 1966 कार्यकारी गुलजारी लाल नन्दा 11 जनवरी 1966 से 24 जनवरी 1966 तीसरे प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी 24 जनवरी 1966 से 24 मार्च 1977 चौथे प्रधानमंत्री मोरार जी देसाई 24 मार्च 1977 से 28 जुलाई 1979 पांचवे प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह 28 जुलाई 1979 से 14 Read Full Article

Shershah Suri - शेरशाह सूरी का परिचय एवं इतिहास (History in Hindi)

शेरशाह सूरी के प्रारंभिक जीवन का वर्णन कीजिए? Shershah Suri Intro - हुमायूं को हराने के बाद शेरशाह दिल्ली का शासक बन गया। उसने 1540 से 1545 तक दिल्ली में शासन किया। उसका जन्म किसी अमीर घराने में नहीं हुआ था, लेकिन शेरशाह सूरी में एक सम्राट, सेनापति, नेता और शासक के गुण मौजूद थे। उसके बचपन का नाम फरीद था। उसका जन्म 1472 में होशियारपुर Read Full Article

Humayun : हुमायूँ के पराजय और असफलता के मुख्य कारण क्या थे? (History Notes: 2022)

हुमायूँ (Humayun) के पराजय और असफलता के मुख्य कारण हुमायूँ (Humayun) को जब राज्य मिला, तब उसे बाबर के द्वारा जीता साम्राज्य तो मिला लेकिन यह साम्राज्य संगठित नहीं था और हुमायूँ (Humayun) भी इसे संगठित और व्यवस्थित नहीं कर पाया। उसे उतराधिकार के रूप मे उसे खाली खजाना मिला। हुमायूँ (Humayun) ने न तो बुद्धिमानी से काम लिया और न ही धैर्य से काम किया। Read Full Article

Commonwealth Games : कॉमनवेल्थ खेलो का इतिहास और भारत की स्थिति

कॉमनवेल्थ गेम का इतिहास क्या हैं? कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) लगभग 88 साल पहले शुरू हुये थे। सबसे पहला कामनवेल्थ गेम कनाडा के हेमिल्टन शहर मे 1930 मे आयोजित किए गए थे। इसके बाद प्रत्येक 4  वर्ष के अंतर मे इस खेल का आयोजन होने लगा। इस खेल आयोजन का का नाम 1930 से लेकर अब तक 4 बार बदला जा चुका हैं।   जब कॉमनवेल्थ गेम Read Full Article

India History - यूरोपीय कंपनियों का भारत में प्रवेश

भारत में यूरोप के कई देश व्यापार के उद्देश्य से लगातार भारत में आ रहे थे, इनके आने का क्रम निम्न प्रकार से है, सबसे पहले पुर्तगाली, फिर डच, इसके बाद इंग्लैंड, फिर डेनमार्क और अंतिम में फ्रांसीसी भारत आए थे। पुर्तगाली कंपनियाँ भारत मे कब आए? वास्कोडिगामा यूरोप का पहला व्यापारी था, जिसने यूरोप से भारत के लिए समुद्री मार्ग की खोज की थी। Read Full Article

पुष्पमित्र सुंग कौन था? | pushyamitra shunga in hindi (Best Article 2022)

पुष्यमित्र शुंग ने मौर्य सम्राट वृहद्रथ की हत्या क्यो की? Pushyamitra Shunga in Hindi : पुष्प मित्र शुंग "शुंग वंश" का संस्थापक था। शुंग वंश की स्थापना 189 ईशा पूर्व हुई थी। अशोक की मृत्यु के बाद मगध के मौर्य साम्राज्य का कुछ वर्षो मे ही पतन हो गया। आगे के मौर्य सम्राट अयोग्य सिद्ध हुये, जिसकी वजह से मौर्य साम्राज्य कमजोर होता गया। मौर्य सम्राट Read Full Article

INDIA GK Question : PSC एवं IAS से संबन्धित कक्षा 10वीं के सामान्य ज्ञान प्रश-उत्तर

भारत के आधुनिक इतिहास एवं स्वतंत्र के आंदोलनो से भरे इतिहास से संबन्धित india gk question जो की PSC और IAS की तैयारी करने वालों के लिए लाभकारी, सभी प्रश्न क्लास 10वी से संबन्धित हैं। इसलिए यह आर्टिक्ल क्लास 10वीं के बच्चो के लिए भी लाभकारी सिद्ध होंगे। गिरमिटिया मजदूर से क्या तात्पर्य है? भारत को जब अंग्रेजो के द्वारा गुलाम बना लिया गया था। तब अंग्रेज Read Full Article

Prithviraj Chauhan History in Hindi | पृथ्वीराज सिंह चौहान का इतिहास

इस पोस्ट के माध्यम से आज हम Prithviraj Chauhan History in Hindi पढ़ने जा रहे हैं। पृथ्वीराज तृतीय, जिन्हें पृथ्वीराज चौहान या राय पिथौरा के नाम से जाना जाता है, चाहमान (चौहान) वंश के एक सम्राट थे। उन्होंने वर्तमान उत्तर-पश्चिमी भारत में पारंपरिक चाहमान क्षेत्र, सपदलक्ष पर शासन किया। उन्होंने वर्तमान राजस्थान, हरियाणा और दिल्ली सहित उत्तर भारत के अधिकांश हिस्से को नियंत्रित किया; इसके Read Full Article

क्रीमिया युद्ध के कारण और उसके महत्व का विश्लेषण

1841 से 1852 तक टर्की साम्राज्य में शांति बनी रही और टर्की के सुल्तान को अपने साम्राज्य की दशा सुधारने का पर्याप्त अवसर मिला परंतु रूढ़िवादी मौलवियों और उलेमाओं के कारण सुधारवादी योजनाएं सफल नहीं हो सकी और शासन तंत्र कमजोर और भ्रष्टाचार पूर्ण बना रहा. अतः टर्की साम्राज्य में रहने वाले ईसाइयों में तीव्र संतोष बना रहा, 1854 में पूर्वी समस्या से संबंधित क्रीमिया Read Full Article

देश को आजाद कराने वाले असली हीरो | Desh ko Kisane Ajad Karavaya | Unsung Hero of Indian Independence

दोस्तो, अगर आप ये लेख अगस्त महीने मे पढ़ रहे हैं तो आपको स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए, दोस्तो एक बार मेरे घर मे एक शादी का फंक्शन हुआ, मैंने ज्यादा से ज्यादा कामो को किया, ऐसे भी काम निपटाए जो दूसरों को  दिया गया था। लेकिन जब शादी का कार्यक्रम खत्म हुआ, घर के सभी लोग फुर्सत होकर एक दिन इकट्ठे बैठे, और घर Read Full Article

History - वियना कांग्रेस 1815ई मे क्यो आयोजित हुआ था? BA | MA | IAS | PSC

वाटरलू के युद्ध मे निपोलियन बुरी तरह पराजित हुआ था। इसके बाद निपोलियन को सेंट हेलेना नाम की निर्जन द्वीप मे भेज दिया गया। इसके बाद फ्रांस की गद्दी खाली हो गई, जिसमे लुई 18वें को बैठा दिया गया। युद्ध के बाद बिगड़े हालातो और तत्कालीन समस्यायों का हल ढ़ूढ़ने के लिए यूरोप के सभी राजनीतिज्ञ लोगो ने एक सम्मेलन का आयोजन किया, यह आयोजन 1815ई Read Full Article


MENU


Secondary Menu
1. About Us
2. Privacy Policy
3. Contact Us
4. Sitemap


All copyright rights are reserved by MERI BAATE.