logo of this websiteMERI BAATE

अम्ल वर्षा किसे कहते हैं? | What is Acid Rain?


अम्ल वर्षा किसे कहते हैं? | What is Acid Rain?

अम्ल वर्षा किसे कहते हैं?

अम्ल वर्षा, वर्षा का वह जल है जिसका pH मान 5.6 से कम होता है। साधारणतः वर्षा के जल का pH मान 7 होता है, जो क्षारीय होता है। लेकिन जब वातावरण में सल्फर डाइऑक्साइड (SO2) और नाइट्रोजन ऑक्साइड (NOx) जैसी गैसें मौजूद होती हैं, तो ये गैसें वर्षा के जल के साथ मिलकर अम्ल बनाती हैं। इन अम्लों में सल्फ्यूरिक अम्ल (H2SO4) और नाइट्रिक अम्ल (HNO3) प्रमुख हैं।

अम्ल वर्षा के कारण जलीय जीव-जंतुओं की मृत्यु, पेड़-पौधों की वृद्धि में कमी, भवनों की क्षति, मृदा की अम्लीयता में वृद्धि, और मानव स्वास्थ्य पर भी हानिकारक प्रभाव पड़ते हैं।

अम्ल वर्षा के कारण क्या है?

अम्ल वर्षा के प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं:

  1. औद्योगिक इकाइयाँ: बिजली संयंत्र, इस्पात संयंत्र, और सीमेंट उद्योग जैसे औद्योगिक इकाइयों में कोयला, तेल, और प्राकृतिक गैस का दहन किया जाता है। इनके दहन से सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसी गैसें निकलती हैं।
  2. परिवहन के साधन: वाहन और वायुयान जैसे परिवहन के साधनों से भी सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसी गैसें निकलती हैं।
  3. घरेलू ईंधन का दहन: लकड़ी, कोयला, और प्राकृतिक गैस जैसे घरेलू ईंधन का दहन भी अम्ल वर्षा का कारण बनता है।

इनके अतिरिक्त, ज्वालामुखी विस्फोट, वनों की आग, और समुद्र के जल में उपस्थित सल्फर डाइऑक्साइड भी अम्ल वर्षा का कारण बन सकती हैं।

अम्ल वर्षा का क्या प्रभाव होता है?

अम्ल वर्षा का प्रभाव निम्नलिखित है:

  1. जलीय जीवन पर प्रभाव: अम्ल वर्षा जलीय जीव-जंतुओं के लिए हानिकारक होती है। यह जलीय जीव-जंतुओं के शरीर के ऊतकों को नुकसान पहुंचाती है, जिससे उनकी मृत्यु हो सकती है। अम्ल वर्षा से जलीय जीव-जंतुओं के प्रजनन पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
  2. पेड़-पौधों पर प्रभाव: अम्ल वर्षा पेड़-पौधों की वृद्धि को प्रभावित करती है। यह पेड़-पौधों की पत्तियों को नुकसान पहुंचाती है, जिससे उनकी उत्पादकता में कमी आती है। अम्ल वर्षा से पेड़-पौधों की जड़ों को भी नुकसान पहुंच सकता है, जिससे उनकी मृत्यु हो सकती है।
  3. भवन और संरचनाओं पर प्रभाव: अम्ल वर्षा भवनों और संरचनाओं को नुकसान पहुंचाती है। यह भवनों और संरचनाओं की सतह को खराब करती है, जिससे उनकी आयु कम हो जाती है। अम्ल वर्षा से धातुओं को भी नुकसान पहुंच सकता है।
  4. मृदा पर प्रभाव: अम्ल वर्षा मृदा की अम्लीयता में वृद्धि करती है। यह मृदा में पोषक तत्वों की मात्रा को कम करती है, जिससे कृषि उत्पादन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। अम्ल वर्षा से मृदा में मौजूद जीवों को भी नुकसान पहुंच सकता है।
  5. मानव स्वास्थ्य पर प्रभाव: अम्ल वर्षा मानव स्वास्थ्य पर भी हानिकारक प्रभाव डाल सकती है। यह सांस लेने की समस्याओं, और आंखों और त्वचा की जलन जैसी समस्याओं का कारण बन सकती है। अम्ल वर्षा से एलर्जी और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का भी खतरा बढ़ सकता है।

अम्ल वर्षा एक गंभीर पर्यावरणीय समस्या है। इसके प्रभावों को कम करने के लिए सभी को मिलकर प्रयास करने की आवश्यकता है।

अम्ल वर्षा सबसे अधिक कहाँ होती है?

अम्ल वर्षा सबसे अधिक उन क्षेत्रों में होती है जहाँ औद्योगिक गतिविधियाँ अधिक होती हैं। इन क्षेत्रों में वातावरण में सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन की मात्रा अधिक होती है, जो अम्ल वर्षा का मुख्य कारण हैं।

अम्ल वर्षा के सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र निम्नलिखित हैं:

  1. उत्तरी अमेरिका, विशेष रूप से पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा।
  2. यूरोप, विशेष रूप से उत्तरी यूरोप और मध्य यूरोप।
  3. पूर्वी एशिया, विशेष रूप से जापान, चीन, और दक्षिण कोरिया।
  4. दक्षिण अमेरिका, विशेष रूप से ब्राज़ील और अर्जेंटीना।

भारत में भी अम्ल वर्षा की समस्या है। यह समस्या सबसे अधिक उत्तरी भारत में होती है, जहाँ औद्योगिक गतिविधियाँ अधिक हैं। अम्ल वर्षा के प्रभावों को कम करने के लिए, इन क्षेत्रों में सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन को कम करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। इन प्रयासों में शामिल हैं:

  1. औद्योगिक इकाइयों में प्रदूषण नियंत्रण उपायों का उपयोग करना।
  2. वाहनों में उत्सर्जन नियंत्रण उपायों का उपयोग करना।
  3. घरेलू ईंधन का दहन करते समय प्रदूषण नियंत्रण उपायों का उपयोग करना।
  4. वृक्षारोपण करना, जिससे वातावरण में सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड को कम किया जा सके।

अम्ल वर्षा कितने समय तक चलती है?

अम्ल वर्षा का समय उसकी तीव्रता और स्थान पर निर्भर करता है। यदि अम्ल वर्षा की तीव्रता कम है, तो यह कुछ घंटों या दिनों तक चल सकती है। यदि अम्ल वर्षा की तीव्रता अधिक है, तो यह कई दिनों या हफ्तों तक चल सकती है।

अम्ल वर्षा के प्रभावों को कम करने के लिए किए जा रहे प्रयासों के कारण, पिछले कुछ दशकों में अम्ल वर्षा की तीव्रता में कमी आई है। लेकिन अभी भी अम्ल वर्षा एक गंभीर पर्यावरणीय समस्या है। अम्ल वर्षा के प्रभावों को कम करने के लिए, सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन को कम करना आवश्यक है। ये गैसें वर्षा के जल के साथ मिलकर अम्ल बनाती हैं।

सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन को कम करने के लिए, वृक्षारोपण करना बहुत जरूरी हैं, जिसकी वजह से वातावरण में सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड को कम किया जा सके।

अम्ल वर्षा से बचने का उपाय क्या हैं?

अम्ल वर्षा से बचने का सबसे अच्छा उपाय सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन को कम करना है। ये गैसें वर्षा के जल के साथ मिलकर अम्ल बनाती हैं। सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन को कम करने के लिए, निम्नलिखित उपाय किए जा सकते हैं:

  1. औद्योगिक इकाइयों में प्रदूषण नियंत्रण उपायों का उपयोग करना। औद्योगिक इकाइयों में कोयला, तेल, और प्राकृतिक गैस का दहन किया जाता है। इनके दहन से सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसी गैसें निकलती हैं। इन गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए, औद्योगिक इकाइयों में प्रदूषण नियंत्रण उपायों का उपयोग किया जा सकता है।
  2. वाहनों में उत्सर्जन नियंत्रण उपायों का उपयोग करना। वाहनों से भी सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड उत्सर्जित होते हैं। इन गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए, वाहनों में उत्सर्जन नियंत्रण उपायों का उपयोग किया जा सकता है।
  3. घरेलू ईंधन का दहन करते समय प्रदूषण नियंत्रण उपायों का उपयोग करना। घरों में भी सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड उत्सर्जित होते हैं। इन गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए, घरेलू ईंधन का दहन करते समय प्रदूषण नियंत्रण उपायों का उपयोग किया जा सकता है।
  4. वृक्षारोपण करना। वृक्ष वातावरण से कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं और ऑक्सीजन छोड़ते हैं। इससे वातावरण में सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड की मात्रा कम होती है।

इन उपायों के अलावा, व्यक्तिगत स्तर पर भी कुछ उपाय किए जा सकते हैं, जो अम्ल वर्षा के प्रभावों को कम करने में मदद कर सकते हैं। इन उपायों में शामिल हैं:

  1. सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करना या साइकिल चलाना। इससे वाहनों से उत्सर्जित गैसों की मात्रा कम होती है।
  2. ऊर्जा के कुशल उपयोग को अपनाना। इससे ऊर्जा की खपत कम होती है, जिससे सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन में कमी आती है।
  3. अपशिष्ट प्रबंधन के उचित तरीकों का उपयोग करना। इससे वातावरण में सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन में कमी आती है।

सभी को मिलकर प्रयास करके ही अम्ल वर्षा के प्रभावों को कम किया जा सकता है।

भारत के किन राज्यों में अम्लीय वर्षा होती है?

भारत के उन्ही राज्यों में अम्लीय वर्षा होती है जहाँ औद्योगिक गतिविधियाँ अधिक होती हैं। इन राज्यों में शामिल हैं:

  1. उत्तर प्रदेश
  2. राजस्थान
  3. मध्य प्रदेश
  4. बिहार
  5. उड़ीसा
  6. महाराष्ट्र
  7. गुजरात
  8. पश्चिम बंगाल

इन राज्यों में बिजली संयंत्र, इस्पात संयंत्र, और सीमेंट उद्योग जैसे औद्योगिक इकाइयों में कोयला, तेल, और प्राकृतिक गैस का दहन किया जाता है। इनके दहन से सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसी गैसें निकलती हैं। ये गैसें वर्षा के जल के साथ मिलकर अम्ल बनाती हैं।

Keyword :अम्ल वर्षा किसे कहते हैं? | What is Acid Rain?,


Related Post
☛ सपने मे कुत्ते का काटना शुभ या अशुभ है | Sapne me Kutte ka katna
☛ Mahila Divas 8 March : महिला दिवस क्यो मनाया जाता हैं? जानते हैं इतिहास
☛ Interesting 2022 : कनाडा के बारे मे 33 रोचक बाते | Important fact about Canada
☛ अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी | Atal Bihari Vajpayee Hindi
☛ समोसा खाने से कौन सी बीमारी होती है
☛ Fact GK 2022 : Airtel का मालिक कौन है? Airtel ka Malik Kaun hain?
☛ दुनिया का सबसे खतरनाक कुत्ता | duniya ka sabse khatarnak kutta
☛ ICC T20 वर्ल्ड कप का इतिहास | History of ICC T20 World Cup
☛ दैनिक जीवन में पर्यावरण की रक्षा कैसे करें?
☛ रीवा के अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय से क्यों करें BCA 2023? (BCA from Apsu Best University)

MENU
1. मुख्य पृष्ठ (Home Page)
2. मेरी कहानियाँ
3. Hindi Story
4. Akbar Birbal Ki Kahani
5. Bhoot Ki Kahani
6. मोटिवेशनल कोट्स इन हिन्दी
7. दंत कहानियाँ
8. धार्मिक कहानियाँ
9. हिन्दी जोक्स
10. Uncategorized
11. आरती संग्रह
12. पंचतंत्र की कहानी
13. Study Material
14. इतिहास के पन्ने
15. पतंजलि-योगा
16. विक्रम और बेताल की कहानियाँ
17. हिन्दी मे कुछ बाते
18. धर्म-ज्ञान
19. लोककथा
20. भारत का झूठा इतिहास
21. ट्रेंडिंग कहानिया
22. दैनिक राशिफल
23. Tech Guru
24. Entertainment
25. Blogging Gyaan
26. Hindi Essay
27. Online Earning
28. Song Lyrics
29. Career Infomation
30. mppsc
31. Tenali Rama Hindi Story
32. Chalisa in Hindi
33. Computer Gyaan
34. बूझो तो जाने
35. सविधान एवं कानून
36. किसान एवं फसले
37. World Gk
38. India Gk
39. MP GK QA
40. Company Ke Malik
41. Health in Hindi
42. News and Current
43. Google FAQ
44. Recipie in Hindi
45. खेल खिलाड़ी


Secondary Menu
1. About Us
2. Privacy Policy
3. Contact Us
4. Sitemap


All copyright rights are reserved by Meri Baate.