logo of this websiteMERI BAATE

दैनिक जीवन में पर्यावरण की रक्षा कैसे करें?


दैनिक जीवन में पर्यावरण की रक्षा कैसे करें?

दैनिक जीवन में पर्यावरण की रक्षा कैसे करें?

पर्यावरण की रक्षा हमारे जीवन की एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है। हम सभी दैनिक जीवन में कुछ छोटे-छोटे बदलाव करके पर्यावरण को बचाने में योगदान दे सकते हैं। इस लेख में कुछ आसान तरीके दिए गए हैं जिनसे हम दैनिक जीवन में पर्यावरण की रक्षा कर सकते हैं:

  1. पौधरोपण करें- पौधे वायु को शुद्ध करते हैं और प्रदूषण को कम करते हैं। अपने घर, कार्यालय या आसपास के क्षेत्र में अधिक से अधिक पौधे लगाएं।
  2. अपशिष्ट प्रबंधन में सावधानी बरतें- कचरे को कम करें, पुन: उपयोग करें और रीसाइक्लिंग करें। प्लास्टिक और अन्य गैर-बायोडिग्रेडेबल सामग्री का उपयोग कम करें।
  3. पानी का संरक्षण करें- नहाते समय, ब्रश करते समय या दांत साफ करते समय नल को बंद रखें। पानी के रिसाव की मरम्मत करें।
  4. ऊर्जा का संरक्षण करें- उपकरणों का उपयोग करते समय, उन्हें बंद रखें जब आप उनका उपयोग नहीं कर रहे हों। बिजली की लाइटें और पंखे बंद रखें जब आप उनका उपयोग नहीं कर रहे हों।
  5. कम यात्रा करें- जब भी संभव हो, पैदल चलें, साइकिल चलाएं या सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करें। कार्बन उत्सर्जन को कम करें। ऊर्जा कुशल उपकरणों का उपयोग करें। अपने घर को ऊर्जा कुशल बनाने के लिए उपाय करें।

यदि हम पर्यावरण की रक्षा नहीं करेंगे तो क्या होगा?

यदि हम पर्यावरण की रक्षा नहीं करेंगे तो इन समस्याओं के और भी गंभीर परिणाम होंगे। उदाहरण के लिए, जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र का जलस्तर इतना बढ़ सकता है कि कई तटीय शहरों को खाली करना पड़ सकता है। प्रदूषण के कारण स्वास्थ्य समस्याएं इतनी गंभीर हो सकती हैं कि लोगों की जीवन प्रत्याशा कम हो सकती है। और जैव विविधता का नुकसान इतना बड़ा हो सकता है कि कई प्रजातियां विलुप्त हो सकती हैं। कुछ प्रमुख परिणाम इस प्रकार हैं:

  1. जलवायु परिवर्तन: जलवायु परिवर्तन एक वैश्विक आपदा है जो पहले से ही दुनिया भर में प्राकृतिक आपदाओं, जैसे कि बाढ़, सूखा और तूफान, की आवृत्ति और तीव्रता में वृद्धि का कारण बन रही है। जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र का जलस्तर बढ़ रहा है, जिससे तटीय क्षेत्रों में बाढ़ और अन्य समस्याएं हो रही हैं।
  2. प्रदूषण: प्रदूषण हमारे स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए एक गंभीर खतरा है। वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण सभी स्वास्थ्य समस्याओं, जैसे कि सांस की बीमारियों, कैंसर और हृदय रोगों का कारण बन सकते हैं।
  3. जैव विविधता का नुकसान: जैव विविधता हमारे पारिस्थितिकी तंत्र के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। जब हम प्रदूषण, वनों की कटाई और अन्य गतिविधियों के माध्यम से जैव विविधता को नुकसान पहुंचाते हैं, तो हम अपने पारिस्थितिकी तंत्र की स्थिरता को खतरे में डालते हैं।

हम सभी को पर्यावरण की रक्षा के लिए काम करने की आवश्यकता है। हम अपने दैनिक जीवन में छोटे-छोटे बदलाव करके शुरुआत कर सकते हैं, जैसे कि कम ऊर्जा का उपयोग करना, कम कचरा पैदा करना और अधिक पौधे लगाना। हम अपने समुदायों और सरकारों को पर्यावरण के अनुकूल नीतियों और प्रथाओं को अपनाने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। एक साथ मिलकर, हम एक स्वस्थ और टिकाऊ भविष्य बना सकते हैं।

पर्यावरण के लिए सबसे अच्छा पौधा कौन सा है?

पर्यावरण के लिए सबसे अच्छा पौधा वह है जो वायु को शुद्ध करता है, कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करता है, और ऑक्सीजन का उत्पादन करता है। ऐसे कई पौधे हैं जो इन सभी आवश्यकताओं को पूरा करते हैं। इन पौधों को अपने घर, कार्यालय या आसपास के क्षेत्र में लगाकर, आप पर्यावरण को स्वच्छ और स्वस्थ बनाने में योगदान दे सकते हैं। नीचे इन पौधे के बारे मे सूची बताई जा रही हैं-

  1. फर्न: फर्न वायु में मौजूद प्रदूषकों को अवशोषित करने में बहुत अच्छे होते हैं। वे विशेष रूप से नाइट्रोजन ऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और ओजोन को खत्म करने में प्रभावी होते हैं।
  2. सफेद चमेली: सफेद चमेली एक सुगंधित फूल है जो वायु में मौजूद कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करने में बहुत अच्छा होता है। यह ऑक्सीजन का भी उत्पादन करता है।
  3. स्पाइडर प्लांट: स्पाइडर प्लांट एक लोकप्रिय इनडोर पौधा है जो हवा से विषाक्त पदार्थों को अवशोषित करने में बहुत अच्छा होता है। यह विशेष रूप से फॉर्मलाडेहाइड, बेंजीन और ट्राइक्लोरोइथेन को खत्म करने में प्रभावी होता है।
  4. पीस लिली: पीस लिली एक अन्य लोकप्रिय इनडोर पौधा है जो हवा से विषाक्त पदार्थों को अवशोषित करने में बहुत अच्छा होता है। यह विशेष रूप से बेंजीन, फॉर्मलाडेहाइड और ट्राइक्लोरोइथेन को खत्म करने में प्रभावी होता है।

यहाँ कुछ अन्य पौधे दिए गए हैं जो पर्यावरण के लिए अच्छे हैं:

  1. डैफोडील: डैफोडील वसंत के आगमन का प्रतीक है, लेकिन यह वायु को शुद्ध करने में भी बहुत अच्छा होता है।
  2. गुलाब: गुलाब सुंदर और सुगंधित होते हैं, लेकिन वे वायु से कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करने और ऑक्सीजन का उत्पादन करने में भी अच्छे होते हैं।
  3. ऑर्किड: ऑर्किड उष्णकटिबंधीय फूल हैं जो अपनी सुंदरता के लिए जाने जाते हैं। वे वायु को शुद्ध करने में भी बहुत अच्छे होते हैं।
  4. लौकी: लौकी एक सब्जी है जिसका उपयोग कई व्यंजनों में किया जाता है। यह वायु से कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करने और ऑक्सीजन का उत्पादन करने में भी अच्छा होता है।
आप अपने स्थानीय जलवायु और वातावरण के लिए सबसे उपयुक्त पौधे चुनने के लिए एक बागवानी विशेषज्ञ से परामर्श कर सकते हैं।

क्या फूल लगाना पर्यावरण के लिए अच्छा है?

हाँ, फूल लगाना पर्यावरण के लिए अच्छा है। फूल लगाने के कई अलग-अलग तरीके हैं। आप अपने घर, कार्यालय या आसपास के क्षेत्र में फूल लगा सकते हैं। आप फूलों के बगीचे, फूलों के डिब्बे या फूलों के गमले लगा सकते हैं। फूल कई तरीकों से पर्यावरण को लाभ पहुंचाते हैं।

  1. वायु को शुद्ध करते हैं: फूल वायु में मौजूद प्रदूषकों, जैसे कि कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड को अवशोषित करने में मदद करते हैं। वे ऑक्सीजन का भी उत्पादन करते हैं, जिससे वायु की गुणवत्ता में सुधार होता है।
  2. जलवायु परिवर्तन से लड़ते हैं: फूल कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं, जो एक ग्रीनहाउस गैस है जो जलवायु परिवर्तन का कारण बनती है। फूल लगाने से कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर को कम करने में मदद मिलती है, जिससे जलवायु परिवर्तन से लड़ने में मदद मिलती है।
  3. जैव विविधता को बढ़ावा देते हैं: फूल पक्षियों, कीड़ों और अन्य जानवरों के लिए भोजन और आश्रय प्रदान करते हैं। वे जैव विविधता को बढ़ावा देने में मदद करते हैं, जो एक स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र के लिए आवश्यक है।
  4. मन को खुश करते हैं: फूल मन को खुश करने और तनाव को कम करने में मदद करते हैं। वे हमारे आसपास के वातावरण को सुंदर और आकर्षक बनाते हैं।

 फूल लगाना एक आसान और प्रभावी तरीका है जिससे आप पर्यावरण की मदद कर सकते हैं।

पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले कारक कौन कौन से हैं?

पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले कारक कई हैं। इनमें से कुछ प्रमुख कारक इस प्रकार हैं:

  1. प्रदूषण: प्रदूषण पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने का सबसे बड़ा कारक है। प्रदूषण कई प्रकार का होता है, जिसमें वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण और भूमि प्रदूषण शामिल हैं।
  2. वनों की कटाई: वनों की कटाई पर्यावरण के लिए एक गंभीर खतरा है। वन हमारे ग्रह के लिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं, कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं, और जलवायु परिवर्तन से लड़ने में मदद करते हैं।
  3. जैव विविधता का नुकसान: जैव विविधता का नुकसान पर्यावरण के लिए एक और गंभीर खतरा है। जैव विविधता हमारे ग्रह के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह पारिस्थितिकी तंत्र के स्वास्थ्य और स्थिरता के लिए आवश्यक है।
  4. जलवायु परिवर्तन: जलवायु परिवर्तन एक वैश्विक आपदा है जो पहले से ही दुनिया भर में प्राकृतिक आपदाओं, जैसे कि बाढ़, सूखा और तूफान, की आवृत्ति और तीव्रता में वृद्धि का कारण बन रही है। जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र का जलस्तर बढ़ रहा है, जिससे तटीय क्षेत्रों में बाढ़ और अन्य समस्याएं हो रही हैं।
  5. अवैध शिकार और मछली पकड़ना: अवैध शिकार और मछली पकड़ना जैव विविधता के नुकसान का एक प्रमुख कारण है। अवैध शिकार और मछली पकड़ना कई प्रजातियों के विलुप्त होने का कारण बन रहा है।
  6. असंयमित उपभोग: असंयमित उपभोग पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने का एक प्रमुख कारक है। जब हम आवश्यकता से अधिक उपभोग करते हैं, तो हम संसाधनों का दुरुपयोग करते हैं और प्रदूषण का कारण बनते हैं।

इन कारकों के कारण पर्यावरण में कई गंभीर समस्याएं हो रही हैं, जैसे कि:

  1. वायु प्रदूषण: वायु प्रदूषण से सांस की बीमारियां, कैंसर और हृदय रोग हो सकते हैं।
  2. जल प्रदूषण: जल प्रदूषण से जलीय जीवन को नुकसान पहुंच सकता है और मनुष्यों के लिए पीने का पानी असुरक्षित हो सकता है।
  3. ध्वनि प्रदूषण: ध्वनि प्रदूषण से सुनने की समस्याएं और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।
  4. भूमि प्रदूषण: भूमि प्रदूषण से मिट्टी की गुणवत्ता में गिरावट आ सकती है और फसलों की उत्पादकता प्रभावित हो सकती है।
  5. जैव विविधता का नुकसान: जैव विविधता का नुकसान पारिस्थितिकी तंत्र के स्वास्थ्य और स्थिरता को खतरे में डाल सकता है।
  6. जलवायु परिवर्तन: जलवायु परिवर्तन से प्राकृतिक आपदाओं, जैसे कि बाढ़, सूखा और तूफान, की आवृत्ति और तीव्रता में वृद्धि हो सकती है।
  7. अवैध शिकार और मछली पकड़ना: अवैध शिकार और मछली पकड़ना कई प्रजातियों के विलुप्त होने का कारण बन सकता है।
  8. असंयमित उपभोग: असंयमित उपभोग संसाधनों के दुरुपयोग और प्रदूषण का कारण बन सकता है।

हम सभी को पर्यावरण को बचाने के लिए काम करने की आवश्यकता है। हम अपने दैनिक जीवन में छोटे-छोटे बदलाव करके शुरू कर सकते हैं, जैसे कि कम ऊर्जा का उपयोग करना, कम कचरा पैदा करना और अधिक पौधे लगाना। हम अपने समुदायों और सरकारों को पर्यावरण के अनुकूल नीतियों और प्रथाओं को अपनाने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

एक साथ मिलकर, हम एक स्वस्थ और टिकाऊ भविष्य बना सकते हैं।

पर्यावरण के लिए सबसे ज्यादा हानिकारक क्या है?

पर्यावरण के लिए सबसे ज्यादा हानिकारक चीजें वे हैं जो जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण और जैव विविधता के नुकसान को बढ़ावा देती हैं। इनमें शामिल हैं:

  1. जीवाश्म ईंधन का उपयोग: जीवाश्म ईंधन का उपयोग कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन का प्रमुख कारण है, जो जलवायु परिवर्तन का कारण बनते हैं।
  2. वनों की कटाई: वन कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं और ऑक्सीजन का उत्पादन करते हैं, इसलिए वनों की कटाई जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण को बढ़ावा देती है।
  3. प्लास्टिक प्रदूषण: प्लास्टिक अपशिष्ट लंबे समय तक रहता है और पर्यावरण में फैलता है, जिससे प्रदूषण और जैव विविधता के नुकसान होता है।
  4. अवैध शिकार और मछली पकड़ना: अवैध शिकार और मछली पकड़ना जैव विविधता के नुकसान का एक प्रमुख कारण है।
  5. असंयमित उपभोग: असंयमित उपभोग संसाधनों के दुरुपयोग और प्रदूषण का कारण बनता है।

इन कारकों के कारण पर्यावरण में कई गंभीर समस्याएं हो रही हैं, जैसे कि:

  1. जलवायु परिवर्तन: जलवायु परिवर्तन से प्राकृतिक आपदाओं, जैसे कि बाढ़, सूखा और तूफान, की आवृत्ति और तीव्रता में वृद्धि हो सकती है।
  2. प्रदूषण: प्रदूषण से स्वास्थ्य समस्याएं, जैसे कि सांस की बीमारियां, कैंसर और हृदय रोग हो सकते हैं।
  3. जैव विविधता का नुकसान: जैव विविधता का नुकसान पारिस्थितिकी तंत्र के स्वास्थ्य और स्थिरता को खतरे में डाल सकता है।

हम सभी को इन कारकों को कम करने के लिए काम करने की आवश्यकता है। हम अपने दैनिक जीवन में छोटे-छोटे बदलाव करके शुरू कर सकते हैं, जैसे कि कम ऊर्जा का उपयोग करना, कम कचरा पैदा करना और अधिक पौधे लगाना। हम अपने समुदायों और सरकारों को पर्यावरण के अनुकूल नीतियों और प्रथाओं को अपनाने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

एक साथ मिलकर, हम एक स्वस्थ और टिकाऊ भविष्य बना सकते हैं।

विशेष रूप से, जलवायु परिवर्तन को पर्यावरण के लिए सबसे हानिकारक चीज माना जाता है। जलवायु परिवर्तन से प्राकृतिक आपदाओं, जैसे कि बाढ़, सूखा और तूफान, की आवृत्ति और तीव्रता में वृद्धि हो सकती है। जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र का जलस्तर बढ़ रहा है, जिससे तटीय क्षेत्रों में बाढ़ और अन्य समस्याएं हो रही हैं।

जलवायु परिवर्तन का कारण जीवाश्म ईंधन का उपयोग है। जीवाश्म ईंधन का उपयोग कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन का प्रमुख कारण है, जो जलवायु परिवर्तन का कारण बनते हैं।

हम जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिए जीवाश्म ईंधन के उपयोग को कम करने के लिए काम कर सकते हैं। हम ऐसा ऊर्जा कुशलता में सुधार करके, नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों में निवेश करके और जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करके कर सकते हैं।

पर्यावरण दिवस कब मनाया जाता है

हर साल 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। यह दिन पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ाने और पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्रवाई करने के लिए मनाया जाता है।

विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत 1972 में हुई थी। उस साल, संयुक्त राष्ट्र ने मानव पर्यावरण पर स्टॉकहोम सम्मेलन आयोजित किया था। इस सम्मेलन में 119 देशों ने भाग लिया था और उन्होंने पर्यावरण संरक्षण के लिए एक दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर किए थे।

विश्व पर्यावरण दिवस हर साल एक अलग थीम के साथ मनाया जाता है। 2023 में, विश्व पर्यावरण दिवस की थीम "पारिस्थितिक तंत्र पुनर्स्थापन" है। यह थीम जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण और अन्य मानवीय गतिविधियों के कारण क्षतिग्रस्त पारिस्थितिक तंत्र को पुनर्स्थापित करने पर ध्यान केंद्रित करती है।

विश्व पर्यावरण दिवस को मनाने के लिए कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इनमें पेड़ लगाना, सफाई अभियान, और पर्यावरण संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए कार्यक्रम शामिल हैं।

हम सभी को विश्व पर्यावरण दिवस को मनाने और पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए। हम अपने दैनिक जीवन में छोटे-छोटे बदलाव करके पर्यावरण को बचाने में मदद कर सकते हैं, जैसे कि कम ऊर्जा का उपयोग करना, कम कचरा पैदा करना और अधिक पौधे लगाना।

क्या एसी पर्यावरण को प्रभावित करता है?

हाँ, एयर कंडीशनर (एसी) पर्यावरण को प्रभावित करते हैं। एयर कंडीशनर का उपयोग करने से कई तरह से पर्यावरण को नुकसान पहुंच सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  1. ऊर्जा की खपत: एसी बहुत अधिक ऊर्जा का उपयोग करते हैं। एक अध्ययन के अनुसार, एसी दुनिया भर में बिजली की खपत का लगभग 10% हिस्सा हैं। एसी से होने वाली ऊर्जा की खपत जलवायु परिवर्तन में योगदान करती है।
  2. ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन: एसी का उपयोग करने से ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन होता है, जो जलवायु परिवर्तन का कारण बनते हैं। एसी से होने वाला ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन कार्बन डाइऑक्साइड, मीथेन और नाइट्रोजन ऑक्साइड से बना होता है।
  3. ओजोन परत का क्षरण: कुछ प्रकार के एसी में क्लोरोफ्लोरोकार्बन (सीएफसी) और हाइड्रोक्लोरोफ्लोरोकार्बन (एचसीएफसी) जैसे हानिकारक रसायन होते हैं। ये रसायन ओजोन परत को क्षरित करते हैं, जो सूर्य से हानिकारक पराबैंगनी विकिरण से पृथ्वी को बचाता है।
  4. प्रदूषण: एसी से गर्म हवा बाहर निकलती है, जिससे वायु प्रदूषण होता है। यह गर्म हवा आसपास के वातावरण को गर्म कर सकती है और हवा की गुणवत्ता को खराब कर सकती है।

एसी के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के लिए, हम निम्नलिखित कार्य कर सकते हैं:

  1. ऊर्जा कुशल एसी का उपयोग करें: ऊर्जा कुशल एसी कम ऊर्जा का उपयोग करते हैं और कम ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन करते हैं।
  2. अपने एसी का उपयोग कम करें: जब भी संभव हो, अपने एसी का उपयोग कम करें।
  3. अपने एसी को ठीक से रखरखाव करें: अपने एसी को ठीक से रखरखाव करने से यह अधिक कुशलता से काम करेगा और कम ऊर्जा का उपयोग करेगा।
  4. नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों का उपयोग करें: अपने एसी को चलाने के लिए नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों, जैसे सौर या पवन ऊर्जा का उपयोग करें।

हम सभी को एसी के पर्यावरणीय प्रभावों के बारे में जागरूक होना चाहिए और इन प्रभावों को कम करने के लिए कदम उठाने चाहिए।

Keyword :दैनिक जीवन में पर्यावरण की रक्षा कैसे करें?,


Related Post
☛ सबसे तेज दौड़ने वाला जीवित इंसान कौन है
☛ सुरक्षा : घर मे घुस आए अगर साँप तो करे ये उपाय (साँप को कैसे भगाये)
☛ त्वचा को गोरा करने के लिए गुड़हल का फूल
☛ buggu शब्द का मतलब क्या होता हैं? | buggu meaning in hindi
☛ Mrs., Ms. और Miss का इस्तेमाल कब किया जाता हैं? (When use Mrs, Ms and Miss)
☛ रीवा के अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय से क्यों करें BCA 2023? (BCA from Apsu Best University)
☛ Mouse और Rat के बीच क्या अंतर हैं? (Difference between Mouse and Rat)
☛ अम्ल वर्षा किसे कहते हैं? | What is Acid Rain?
☛ Interesting 2022 : कनाडा के बारे मे 33 रोचक बाते | Important fact about Canada
☛ Final और Finale मे क्या अंतर हैं (Difference between Final and Finale)

MENU
1. मुख्य पृष्ठ (Home Page)
2. मेरी कहानियाँ
3. Hindi Story
4. Akbar Birbal Ki Kahani
5. Bhoot Ki Kahani
6. मोटिवेशनल कोट्स इन हिन्दी
7. दंत कहानियाँ
8. धार्मिक कहानियाँ
9. हिन्दी जोक्स
10. Uncategorized
11. आरती संग्रह
12. पंचतंत्र की कहानी
13. Study Material
14. इतिहास के पन्ने
15. पतंजलि-योगा
16. विक्रम और बेताल की कहानियाँ
17. हिन्दी मे कुछ बाते
18. धर्म-ज्ञान
19. लोककथा
20. भारत का झूठा इतिहास
21. ट्रेंडिंग कहानिया
22. दैनिक राशिफल
23. Tech Guru
24. Entertainment
25. Blogging Gyaan
26. Hindi Essay
27. Online Earning
28. Song Lyrics
29. Career Infomation
30. mppsc
31. Tenali Rama Hindi Story
32. Chalisa in Hindi
33. Computer Gyaan
34. बूझो तो जाने
35. सविधान एवं कानून
36. किसान एवं फसले
37. World Gk
38. India Gk
39. MP GK QA
40. Company Ke Malik
41. Health in Hindi
42. News and Current
43. Google FAQ
44. Recipie in Hindi
45. खेल खिलाड़ी


Secondary Menu
1. About Us
2. Privacy Policy
3. Contact Us
4. Sitemap


All copyright rights are reserved by Meri Baate.