सुबह सुबह कौआ देखना, सपने में कौआ को देखना, कौआ का पर्यायवाची शब्द, कौवा कौन से देवता का वाहन है, कौवे किसका प्रतीक हैं, कौवा कांव कांव करता है तो क्या होता है, कौआ का सिर पर पैर मारना,

सुबह सुबह कौआ देखना

सुबह सुबह कौआ देखना

सुबह सुबह कौआ देखना एक आम घटना है। कौआ अक्सर सुबह जल्दी उठते हैं और भोजन की तलाश में निकल जाते हैं। अगर आपको सुबह सुबह कौआ दिखाई दे, तो घबराने की जरूरत नहीं है। यह कोई अशुभ संकेत नहीं है।

लेकिन कुछ जगहों पर कौआ को अशुभ माना जाता है। अगर आपको किसी धार्मिक स्थल के पास या किसी व्यक्ति के घर के पास कौआ दिखाई दे, तो यह अशुभ संकेत माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि कौआ बीमारी या दुर्भाग्य का संकेत है।

कुछ लोगो का मानना हैं की कौआ एक सामान्य पक्षी है और इसे अशुभ या शुभ नहीं माना जाना चाहिए।

विश्वभर के देशो में कौवे को लेकर लोगो की मान्यताएँ

 दुनिया भर में कई संस्कृतियों में कौवे के बारे में कई सामान्य मान्यताएं हैं। उदाहरण के लिए, यह अक्सर माना जाता है कि कौवे मृत्यु और बुरी किस्मत के शगुन हैं। कौवे भी जादू और जादू टोना से जुड़े हैं। कौवे बुद्धिमान और रहस्यमयी पक्षी हैं जो दुनिया भर में विभिन्न संस्कृतियों में विभिन्न अंधविश्वासों और मान्यताओं से जुड़े हैं। यहां कुछ उदाहरण दिये जा रहे हैं:-

  1. आयरलैंड: आयरलैंड में, यह माना जाता है कि एक अकेला कौवा देखना बुरी किस्मत का संकेत है, लेकिन दो कौवे देखना अच्छी किस्मत का संकेत है। तीन कौवे देखना मौत की चेतावनी माना जाता है।
  2. स्कॉटलैंड: स्कॉटलैंड में, कौवे सेल्टिक देवी मॉरिगन से जुड़े हुए हैं, जो युद्ध और मृत्यु की देवी थीं। कौवे को भी बुरी किस्मत का शगुन माना जाता है, और ऐसा माना जाता है कि अगर कोई कौवा किसी घर के ऊपर से उड़ता है, तो उस घर में कोई एक साल के भीतर मर जाएगा।
  3. इंग्लैंड: इंग्लैंड में, कौवे से जुड़े कई अंधविश्वास हैं। उदाहरण के लिए, यह माना जाता है कि अगर कोई कौवा आपके शादी के जुलूस के ऊपर से उड़ता है, तो आपकी शादी बर्बाद हो जाएगी। यह भी माना जाता है कि अगर कोई कौवा आपकी छत पर उतरता है, तो आपके घर में कोई बीमार है या मरने वाला है।
  4. जर्मनी: जर्मनी में, कौवे जादू टोना और बुराई से जुड़े हैं। ऐसा माना जाता है कि कौवे चुड़ैलों के परिचित हैं, और उनका उपयोग जादू और शाप देने के लिए किया जा सकता है।
  5. जापान: जापान में, कौवे को देवताओं के दूत के रूप में देखा जाता है। वे बुद्धि और दीर्घायु से भी जुड़े हैं। कौवे को जापान में अक्सर शुभ प्रतीक के रूप में देखा जाता है, और ऐसा माना जाता है कि नए साल के दिन कौवा देखना आने वाले साल के लिए सौभाग्य का संकेत है।
See also  नैवेद्य क्या होता है? नैवेद्य चढ़ाए जाने के नियम क्या है?

सपने में कौआ को देखना

सपने में कौआ को देखना आमतौर पर अशुभ संकेत माना जाता है। यह मृत्यु, दुर्भाग्य, या समस्याओं का संकेत हो सकता है।

कुछ सपने में कौआ को देखने के अर्थ:

  1. सपने में कौआ को अपने सिर पर बैठा देखना: यह मृत्यु या गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है।
  2. सपने में कौआ को अपने घर में घूमते हुए देखना: यह घर में कलह या आर्थिक संकट का संकेत हो सकता है।
  3. सपने में कौआ को अपने पीछे भागते हुए देखना: यह किसी खतरे या समस्या का संकेत हो सकता है।
  4. सपने में कौआ का कावकाव सुनना: यह बुरी खबर या परेशानी का संकेत हो सकता है।

सपने में कौआ को देखने के कुछ शुभ अर्थ भी हो सकते हैं। जैसे की सपने में कौआ को भोजन करते हुए देखना धन या समृद्धि का संकेत हो सकता है।

कौआ का पर्यायवाची शब्द

कौए का पर्यायवाची शब्द है:

    1. काक
    2. वायस
    3. काग
    4. काकल
    5. करट
    6. घाँटी
    7. करटक
    8. काण
    9. कागा
    10. प्रतिजिह्वा
    11. अलिजिह्वा
    12. हाडा

इनमें से काक और वायस सबसे अधिक प्रचलित पर्यायवाची शब्द हैं।

कौवा कौन से देवता का वाहन है?

हिंदू धर्म में, कौवा को शनि देव का वाहन माना जाता है। शनि देव न्याय और कर्म के देवता हैं। उन्हें अक्सर एक काले रंग के आदमी के रूप में चित्रित किया जाता है, जिसके हाथ में एक काला छड़ी होती है। कौवा अक्सर मृत्यु और दुर्भाग्य का प्रतीक माना जाता है, लेकिन शनि देव के वाहन के रूप में, यह ज्ञान और अंतर्दृष्टि का भी प्रतिनिधित्व करता है।

कौवे को अक्सर बुद्धिमान और चालाक पक्षी के रूप में देखा जाता है। वे एक-दूसरे के साथ संवाद करने और अपने आसपास की दुनिया को समझने के लिए जटिल ध्वनियों का उपयोग करते हैं। कौवे अक्सर लाशों को खाते हैं, जो मृत्यु और पुनर्जन्म के चक्र का प्रतीक हो सकता है। शनि देव को अक्सर न्याय के देवता के रूप में देखा जाता है। वे अच्छे और बुरे दोनों के कर्मों का हिसाब रखते हैं। कौवा, ज्ञान और अंतर्दृष्टि के प्रतीक के रूप में, शनि देव को सही निर्णय लेने में मदद करता है।

कौवे किसका प्रतीक हैं?

कौवे कई चीजों का प्रतीक हैं, जिनमें शामिल हैं:

  1. मृत्यु: कौवे अक्सर मृत्यु और दुर्भाग्य का प्रतीक माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अक्सर लाशों को खाते हैं। हालांकि, कुछ संस्कृतियों में, कौवे को मृत्यु के बाद के जीवन के प्रतीक के रूप में भी देखा जाता है।
  2. ज्ञान: कौवे को अक्सर बुद्धि और अंतर्दृष्टि का प्रतीक माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे बहुत चालाक पक्षी होते हैं और वे अपने आसपास की दुनिया को समझने के लिए जटिल ध्वनियों का उपयोग करते हैं।
  3. चालाकी: कौवे को अक्सर चालाक और धूर्त पक्षी के रूप में देखा जाता है। वे अक्सर अपने शिकार को लुभाने या छल करने के लिए अपने बुद्धि का उपयोग करते हैं।
  4. सामुदायिकता: कौवे सामाजिक पक्षी होते हैं और वे बड़ी संख्या में समूहों में रहते हैं। वे एक-दूसरे के साथ संवाद करने और अपने आसपास की दुनिया के बारे में जानकारी साझा करने के लिए जटिल ध्वनियों का उपयोग करते हैं।
  5. सृजन: कुछ संस्कृतियों में, कौवे को सृजन का प्रतीक माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अक्सर नई चीजों की खोज करने और नए तरीकों से चीजों को करने के लिए जाने जाते हैं।
See also  धनतेरस 2021 : भूलकर भी धनतेरस के दिन ना खरीदें ये चीजें, हो सकता है नुकसान

कौवा कांव कांव करता है तो क्या होता है?

कौवा कांव कांव करना एक सामान्य घटना है। कौवे अक्सर एक-दूसरे के साथ संवाद करने के लिए कांव कांव करते हैं। वे अपने आसपास की दुनिया के बारे में जानकारी साझा करने, अपने परिवार के साथ संपर्क बनाए रखने और संभावित खतरों के बारे में चेतावनी देने के लिए कांव कांव का उपयोग करते हैं।

कौवे का कांव कांव करने के कई संभावित कारण हो सकते हैं-

    1. अपने परिवार के सदस्यों को बुला सकते हैं।
    2. अपने क्षेत्र की रक्षा कर सकते हैं।
    3. अपने शिकार को लुभाने या छल करने की कोशिश कर सकते हैं।
    4. खतरे के बारे में चेतावनी दे सकते हैं।
    5. अपने आसपास की दुनिया के बारे में जानकारी साझा कर सकते हैं।

कौवे का कांव कांव अक्सर अशुभ माना जाता है। यह मृत्यु, दुर्भाग्य या समस्याओं का संकेत हो सकता है। हालांकि, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि ये सिर्फ अंधविश्वास हैं। कौवा एक सामान्य पक्षी है और इसका कांव कांव करना हमेशा अशुभ नहीं होता है।

कौआ का सिर पर पैर मारना

भारत में, कौवे को अक्सर अशुभ माना जाता है। इसलिए, कौए का सिर पर पैर मारना एक अशुभ संकेत माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह मृत्यु, दुर्भाग्य या समस्याओं का संकेत हो सकता है।

कौवे का सिर पर पैर मारने के कई संभावित कारण हो सकते हैं। उदाहरण के लिए-

  1. अपने क्षेत्र की रक्षा कर सकता है।
  2. अपने शिकार को लुभाने या छल करने की कोशिश कर सकता है।
  3. अपनी चोंच को साफ कर सकता है।
  4. अपने पंखों को संरेखित कर सकता है।

यदि आपको कौआ आपके सिर पर पैर मारता है, तो चिंता न करें। यह सिर्फ एक आकस्मिक घटना हो सकती है। हालांकि, यदि आप चिंतित हैं, तो आप किसी अच्छे ज्योतिष से संपर्क कर सकते हैं।

कौवे के शुभ और अशुभ संकेत

हिंदू धर्म में कौवे को यम का दूत माना जाता है। यह माना जाता है कि कौवे किसी भी घटना का पूर्व आभास कर लेते हैं। कौवे से जुड़े कई शुभ और अशुभ संकेत हैं।

कौवे से जुड़े शुभ संकेत

  1. सुबह-सुबह घर की मुंडेर, बालकनी या छत पर आकर कौवा कांव-कांव करे तो यह अच्‍छा संकेत माना जाता है। यह घर में मेहमान के आगमन का संकेत देता है।
  2. अगर कोई कौवा मुंह में रोटी का टुकड़ा दबाकर उड़ते हुए दिखे तो यह आपकी किसी बड़ी इच्‍छा के पूरे होने का शुभ संकेत है।
  3. शकुन शास्‍त्र में दोपहर के समय उत्तर दिशा में कौवे का बोलना भी अच्‍छा माना जाता है।
  4. कौवा अगर अपनी चोंच से भूमि खोदता हुआ दिखाई दे तो माना जाता कि जल्द ही खूब सारा धन प्राप्त होगा।
  5. कौवे की आवाज अगर पीछे से आती है तो यब भी एक शुभ संकेत माना जाता है। इसका मतलब है कि जल्दी ही आपको अपनी समस्याओं से मुक्ति मिलने वाली है।
  6. कौवा अगर चोंच में तिनका या रोटी का टुकड़ा लिए दिखाई देता है तो समझ लीजिए कि आपको जल्द ही धन लाभ होने वाला है। या फिर आपको कीमती वस्तु प्राप्त हो सकती है।
  7. रास्ते में पानी पीता हुआ कोई कौवा दिखाई देना इस बात का संकेत है कि जल्द ही आपकी किस्मत खुलने वाली है। आप जो भी काम करेंगे उसमें आपको सफलता हासिल होगी।
See also  घर में कौन सी चीज रखने से बरकत होती है?

कौवे से जुड़े अशुभ संकेत

  1. अगर कोई कौवा घर की छत पर बैठ कर कांव-कांव करे तो यह अशुभ संकेत माना जाता है। यह घर में किसी अनहोनी की आशंका को जन्‍म देता है।
  2. अगर कौआ आपके ऊपर बीट कर दे तो यह भी अपशकुन माना जाता है। यह संकेत देता है कि आपको किसी तरह कष्ट पहुंचने वाला है। यह कष्ट शारीरिक या आर्थिक भी हो सकता है।
  3. कौवे का सिर को छूकर निकलना भी अशुभ होता है। यह माना जाता है कि आप अचानक से किसी परेशानी में फंस सकते हैं और आपको सावधान रहने की जरूरत है।
  4. अगर कोई कौवा दक्षिण दिशा की तरफ मुंह करके बोले तो यह एक अशुभ संकेत माना जाता है।
  5. अगर कौवा किसी व्यक्ति के सिर पर बैठ जाए तो यह अशुभ संकेत माना जाता है। यह संकेत देता है कि उस व्यक्ति को कोई कष्ट होने वाला है।
  6. अगर कौवा किसी व्यक्ति के घर के दरवाजे पर बैठ कर कांव-कांव करे तो यह भी अशुभ संकेत माना जाता है। यह संकेत देता है कि उस घर में कोई परेशानी आने वाली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *